दिल्ली में 1 से 10 नवंबर तक जहरीली हवा का खतरा, CPCB का अलर्ट

CPCB November Delhi Air Pollution Alert
Icy Tales

CPCB November Delhi Air Pollution Alert : पराली जलाना और दिवाली पर पटाखें फोड़ना बन सकते हैं बड़ी वजह

CPCB November Delhi Air Pollution Alert : एक बार फिर दिल्ली वासियों को आंखों में जलन और सांस लेनें में तकलीफ जैसी समस्याओं से रूबरू होना पड़ सकता है.

दरअसल सेंट्रल पॉलूशन कंट्रोल बोर्ड (CPCB) ने नवंबर में दिल्ली के अंदर बहने वाली हवा को बेहद जहरीली हो जाने की आशंका व्यक्त की है.
बोर्ड के मुताबिक राजधानी में हवा की गति धीमी होने के कारण प्रदुषण बढ़ सकता है, ऐसे में नवंबर के शुरूआती 10 दिन लोग घर से बाहर निकलने में सतर्कता बरतें.
पढ़ें – खेत-खलिहान से लेकर सुरक्षा तक भारत का सच्चा साथी है इजरायल
दिवाली के बाद हालात हो सकते हैं गंभीर
बोर्ड ने आशंका जताई है कि सुप्रीम कोर्ट द्नारा पटाखें जलाने की अनुमति के बाद दिवाली और उसके आस पास के दिनों में प्रदूषण का स्तर बढ़ेगा. जिससे लोगों काो दम घुटने जैसी समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है.

पराली जलाना भी बड़ी वजह
विशेषज्ञों का कहना है कि हवा की कम गति के कारण पंजाब और हरियाणा से पराली जलाने का प्रदूषण दिल्ली-एनसीआर के आसमान में फैल सकता है.
उन्होंने यह बी बताया कि सुबह में तापमान कम होने के कारण यह पाल्यूशन जल्दी दूर भी नहीं होगा  यानि की साफ शब्दों में कहा जाए तो नवंबर की 1 तारीख से लेकर 10 तारीख तक दिल्ली पर Smog का खतरा रहेगा.
CPCB November Delhi Air Pollution Alert
demo pic
CPCB ने दिए सुझाव
इस खतरे से निपटने के लिए बोर्ड ने 1 नवंबर से 10 नवंबर तक दिल्ली – एनसीआर में सभी तरह की कंस्ट्रक्शन ऐक्टिविटी पर रोक लगाने को कहा है.
इसके अलावा 4 से 10 नवंबर तक कोल और बायोगेस से चलने वाली सभी इंडस्ट्री और लघु उद्योगों को भी बंद रखने का सुझाव दिया गया है.
पढ़ें – राजस्थान में क्या हनुमान बन लोग गायब कर रहे पहाड़ ?
आम लोगों के लिए भी निर्देश
सीपीसीबी के सदस्य सचिव प्रशांत गार्गव ने बताया कि इस परिस्थिति से निपटने के लिए लोगों को ज्यादा से ज्यादा पब्लिक ट्रांसपोर्ट की सेवा लेने के लिए कहा गया है.
इसके अलावा ट्रैफिक और ट्रांसपॉर्ट डिपार्टमेंट को भी 1 से 10 नवंबर तक प्रदूषण फैला रही गाड़ियों पर कड़ी कारवाई करने के निर्देश दिए गए हैं.
गौरतलब है कि पिछले 10 सालों में दिल्ली के अंदर अक्टूबर आखिरी और नवंबर के शुरूआती दिनों में हवा का स्तर जहरीला बना रहता है.
इसलिए पिछले रिकार्ड को देखते हुए हो सकता है आने वाले दिनों में प्रदुषण बोर्ड की तरफ से और भी एडवाइजरी जारी हो सकती है.