अच्छी खबर : दिल्ली में गायों के लिए पीजी-हॉस्टल बनवाएगी केजरीवाल सरकार

Delhi PG Hostels For Cow

Delhi PG Hostels For Cow : माइक्रोचिप लगाने के साथ साथ और भी कई अहम बातें है प्रस्ताव में

Delhi PG Hostels For Cow : देश में गायों की हालात सुधारने का दम भले ही बीजेपी और उनकी सहयोगि पार्टियां भरती हों, मगर ठोस कदम उठाने के मामले में दिल्ली सरकार ने बड़ा उदाहरण पेश किया है.

दरअसल दिल्ली सरकार ने राज्य में गायों की दशा सुधारने के लिए उनके लिए पीजी हॉस्टल शुरू करने का फैसला किया है.
राज्य पशुपालन मंत्री गोपाल राय ने बताया की इन हॉस्टलों में गायों के खाने-पीने से लेकर देखभाल की सभी सुविधाएं मौजूद होगीं.
पढ़ें – गुजरात के स्कूलों में अब से छात्र ‘जय हिंद’ या ‘जय भारत’ कहकर देंगे अपनी हाजिरी
हालांकी इसके लिए गाय के मालिक को पैसा देना होगा ताकी हॉस्टल में गाय का पूरा ध्यान रखा जा सके.
हॉस्टल कैसे चलेगा और किसकी जिम्मेदारी होगी, इसकी रूपरेखा एनीमल हसबेंडरी विभाग के अधिकारी संबंधित विभागों से बातचीत के बाद तैयार कर ली जाएगी.
प्रस्ताव में ये है शामिल
*सरकार के इस प्रस्ताव के गायों के हॉस्टलों को वृद्धाश्रम से जोड़ने की योजना है ताकी वृद्ध लोग अपने बुढ़ापे में गायों की सेवा कर सकें.इसके लिए घुम्मन हेड़ा गांव में 18 एकड़ जमीन तलाश ली गई है.
*पशु-पक्षियों के लिए 24 घंटे चिकित्सीय सुविधा मिलेगी इसके लिए 16 जनवरी को तीस हजारी के पास पायलट प्रोजेक्ट के तहत एक अस्पताल शुरू किया जाएगा.
*जनवरी को तीस हजारी के पास पायलट प्रोजेक्ट के तहत एक अस्पताल शुरू किया जाएगा ये भी इस प्रस्ताव में शामिल है.
सिर्फ गाय ही नहीं बल्कि दिल्ली में अब सभी पशु पक्षियों के लिए एक बेहतर माहौल तैयार करना सरकार का लक्ष्य है.
पढ़ेंनए साल में दिल्ली वासियों के लिए कार खरीदना हो जाएगा महंगा, अभी से जाने लें
मंत्री गोपाल राय ने बताया की अभी तक दिल्ली में पशु पक्षियों को लेकर किसी तरह की कोई नीति नहीं बनाई गई थी.
लेकिन अब हमारी सरकार ने Animal Health And Welfare Policy 2018 बनाई है जिसका उद्देश्य इंसानों की तरह बेजुबान जानवरों और पक्षियों के लिए भी बेहतर माहौल बनाना है.
राय ने यहां तक की कह दिया की देश की राजधानी में बेसहारा पशुओं की बढ़ती संख्या चिंताजनक है, जिसे देखते हुए हो सकता है की सरकार आने वाले समय में माइक्रो चिप लगाने का सुझाव दे.
उन्होंने बताया की इस चिप के लगने के बाद बेसहारा पशु की पहचान कर उसके मालिक पर कार्यवाही की जा सकती है.