वोट डालने वाले मतदाताओं को मिलेगा 5 हजार तक का इनाम, चुनाव आयोग की पहल

Election Commission Cash Prize For Voters
demo pic(indian express)


Election Commission Cash Prize For Voters : 2019 के लोकसभा चुनाव में अब तक तीन चरणों के मतदान हो चुके हैं.

Election Commission Cash Prize For Voters : भारत में इस समय चुनाव का मौसम चल रहा सभी पार्टियां अपने अपने ढंग से वोटरों को लुभाने की कोशिश में जुटी हुई है.

बता दें की 2019 के लोकसभा चुनाव में अब तक तीन चरणों के मतदान हो चुके हैं.
मीडिया रिपोर्ट्स की माने तो इस बार वोटरों की संख्या में काफी बढ़ोत्तरी देखी गई है.
लेकिन फिर भी एक बात चुनाव आयोग को ये खटक रही है कि बीते तीन चरणों में जहां ग्रामीण इलाकों में बड़ी तादाद में वोट पड़े हैं वहीं शहरी वोटरों के रूझान में इनके मुकाबले कमी देखी गई है.
पढ़ेंजानिए क्या होती है ‘आचार संहिता’ और क्यों इसे हर चुनाव से पहले लागू किया जाता है
इसी बात से चिंतित होकर चुनाव आयोग मतदाताओं को वोट के लिए जागरूक करने के लिए तरह तरह के अभियान चल रहा है.
ऐसे ही एक कोशिश करी है मध्य प्रदेश चुनाव आयोग ने, दरअसल अंग्रेजी अखबार हिन्दुस्तान टाइम्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक एमपी में बड़ी संख्या में मतदान कराने के लिए आयोग ने 5 हजार रुपए तक के नकद इनाम व अन्य गिफ्ट देने की योजना बनाई है.
इस इनाम को पाने के लिए मतदाताओं को वोट डालकर अपनी उंगलियों के निशान वाली तस्वीर सोशल मीडिया पर शेयर करनी होगी.

अखबार के मुताबिक राज्य के मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि जो लोग लोकसभा चुनाव में वोट डालने के बाद सीईओ एमपी (CEO MP) के सोशल मीडिया अकाउंट पर अपनी तस्वीर शेयर करेंगे और दिए गए वाट्सएप नंबर पर भी अपनी फोटो शेयर करेंगे, उन्हें 3 हजार रुपए से लेकर 5 हजार रुपए तक का नकद इनाम दिया जाएगा.

इस योजना के बारे में ज्वाइंट चीफ इलेक्टोरल ऑफिसर अभिजीत अग्रवाल ने बताया की ये इनाम देने के लिए 4 श्रेणियों में विभाजित एक योजना तैयार करी है.
इसके तहत परिवार की अलग-अलग पीढ़ियों के साथ वोट डालने की तस्वीर, दिव्यांग लोगों के समूह की तस्वीर, लड़कियों और महिलाओं के समूह की तस्वीर और 100 साल के बुजुर्ग मतदाता की तस्वीर पर ये पुरस्कार दिए जाएंगे.
यही नहीं आयोग के अनुसार मतदाताओं को नकद इनाम के अलावा टी-शर्ट, कैप और पेन-ड्राइव भी इनाम के तौर पर दिए जाएंगे.
पढ़ें एक शहर जिसकी तकदीर सोशल मीडिया ने पूरी तरह बदल दी
आपको बता दें की मतदान प्रतिशत बढ़ाने के लिए निर्वाचन आयोग इस तरह की पहली बार पहल कर रहा है.
गौरतलब है कि मध्यप्रदेश की 29 लोकसभा सीटों के लिए चार चरणों में मतदान होने हैं जिसमें प्रथम 29 अप्रैल, 6 मई, 12 मई और 19 मई की तारीख सुनिश्चित करी गई है.