वित्त वर्ष के दूसरी तिमाही में जीडीपी दर घटकर हुई 7.1 %, सरकार को लगा झटका

India Q2 GDP Growth Rate 2018
demo pic

India Q2 GDP Growth Rate 2018 : इसके पहले की तिमाही में ये दर 8.2 फीसदी रही थी

India Q2 GDP Growth Rate 2018 : किसी ने सच ही कहा है जिसके खुद के घर कांच के होते हैं उन्हें दूसरों के आशियानों में पत्थर नहीं फेंकना चाहिए

एक दो दिन पहले मोदी सरकार ने कांग्रेस के कार्यकाल के दौरान रही जीडीपी को उस समय ज्यादा करके बताने का आरोप लगाया था, जिसके बाद दोनों पार्टियों में शुरू हुआ घमासान अब तक जारी है.
लेकिन तभी इस बीच एक ऐसी खबर आई है जिससे मोदी सरकार को बड़ा झटका लगा सकता है.
दरअसल वित्त वर्ष 2018-19 के दूसरी तिमाही यानी की जुलाई से सितंबर के बीच देश की जीडीपी दर 7.1 फीसदी हो गई है.
यहां आपको बताना जरूरी है कि इसके पहले की तिमाही में ये दर 8.2 फीसदी रही थी.यानि की तीन महीने में जीडीपी में 1.1 फीसदी गिरावट देखने को मिली है.
पढ़ेंक्या करतारपुर कॉरिडोर से निकलेगा भारत पाक के बीच दोस्ती का रास्ता, या फिर….
क्या है GDP घटने के कारण
सरकार की आधिकारी रिपोर्ट के मुताबिक इस गिरावट की मुख्य वजह डॉलर के खिलाफ रुपये के मूल्य में आई कमी और ग्रामीण मांग में कटौती मानी जा रही है.
इसके अलावा व्यापार, होटल, ट्रांसपोर्ट, संचार सेक्टर में विकास की रफ्तार घटने से भी जीडीपी गिरी है.
वहीं वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय की तरफ से शुक्रवार को जारी आंकड़े के अनुसार अक्टूबर महीने में उर्वरक उत्पादन में 11.5 प्रतिशत, कच्चे तेल में 5 प्रतिशत और प्राकृतिक गैस के उत्पादन में 0.9 प्रतिशत की कमी भी दर्ज की गई है.

* मैन्युफैक्चरिंग ग्रोथ 13.5% से घटकर 7.4%
* माइनिंग की ग्रोथ 0.1% से घटकर -2.4%
* इलेक्ट्रिसिटी ग्रोथ 7.3% से बढ़कर 9.2%
*कंस्ट्रक्शन ग्रोथ 8.7% घटकर 7.8%
*एग्रीकल्चर ग्रोथ 5.3% से घटकर 3.8%
*ट्रेड, होटल एंड ट्रांसपोर्ट ग्रोथ 6.7% से बढ़कर 6.8%
*पब्लिक एडमिन, डिफेंस ग्रोथ 9.9% से बढ़कर 10.9%
*फाइनेंशियल, रीयल एस्टेट ग्रोथ 6.5% से घटकर 6.3%
*एक्सपोर्ट ग्रोथ 12.7% से बढ़कर 13.4% रहा 

पढ़ेंह्यूमन ट्रैफिकिंग से लेकर हत्या तक, आकड़ों में जानें इस समाज में क्या है महिलाओं का हाल
पिछले साल के मुकाबले हुई वृद्धी
गौरतलब है कि एक साल पहले की इसी तिमाही में जीडीपी का आकड़ा 6.3 प्रतिशत था. वित्तवर्ष 2017-18 की दूसरी तिमाही में जीडीपी की वृद्धि दर 6.3 फीसदी रही थी, जबकि मौजूदा वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में ये आंकड़ा 7.1 है.
 यानि की अगर पिछले साल के जीडीपी ग्रोथ से तुलना करें तो इस तीमाही में भारत की जीडीपी बढ़ी ही है ना की कम हुई है.