पुडुचेरी में खुले में शौच करने वालों को नहीं मिलेगा राशन का मुफ्त चावल – उपराज्यपाल किरण बेदी

Kiran Bedi Open Defecation Decision

Kiran Bedi Open Defecation Decision : जिन गांवों को प्रशासन की ओर स्वच्छता का प्रमाण दिया जाएगा उन्हें ही चावल सप्लाई होगा.

Kiran Bedi Open Defecation Decision : पुडुचेरी की उप राज्यपाल किरण बेदी ने स्वच्छ भारत मिशन के तहत राज्य के लोगों के लिए एक नया फरमान जारी किया है.

अपनी तीखे तेवर और तेज दिमाग की वजह से जाने जाने वाली किरण बेदी ने अपने इस फरमान में खुले में शौच जाने वालों को राशन की आपूर्ति ना करने का निर्देश दिया है.
उपराज्यपाल बेदी ने कहा है कि जो गांव खुले में शौच से मुक्त नहीं हो पाए हैं, वहां के लोगों को राशन के रूप में मिलने वाला मुफ्त चावल नहीं दिया जाएगा. इसके बारे में उपराज्यपाल कार्यालय की ओर से राज्य के सभी विधायकों और अधिकारियों को स्टेटमेंट जारी कर दिया गया है.
बता दें कि उपराज्यपाल का नया फरमान जून से लागू होगा और सभी क्षेत्रों को चार हफ्तों यानि की 31 मई तक की डेडलाइन दी गई है ताकि वे अपने इलाके में सफाई कर सकें
उपराज्यपाल कार्यालय की ओर से साफ तौर पर कहा गया है कि जिन गांवों को प्रशासन की ओर स्वच्छता का प्रमाण दिया जाएगा उन्हें ही चावल सप्लाई होगा.
यह भी पढ़ें – UGC Fake University List : जानिए UGC द्वारा जारी की गई सभी 24 फेक यूनिवर्सिटी के नाम
किरण बेदी ने कहा कि वो अपने राज्य के ग्रामीण स्‍वच्‍छता की धीमी गति से बेहद निराश है और उन्होंने पिछले दो साल में स्‍थानीय प्रतिनिधियों और संबंधित पब्लिक ऑफिशल्‍स को ग्रामीण पुड्डुचेरी में एक समय सीमा के अंदर साफ करने के प्रति प्रतिबद्ध नहीं देखा.
उन्होंने कहा कि जब भी वे गांवों का दौरा करने गईं तो विधायक द्वारा लोगो के लिए मांगे गए फंड का स्वच्छता के पक्ष में कुछ सकारात्मक नहीं दिखा.
वहीं इस पूरे मामले में बेदी के आदेश की सत्ताधारी कांग्रेस और अन्नाद्रमुक ने आलोचना की है.
विपक्षी पार्टियों ने कहा कि उपराज्यपाल द्वारा लिया गया फैसला पूरी तरह गरीब विरोधी है इससे उपराज्यपाल का तानाशाही मिजाज का पता चलता है क्योंकी गरीबों को सरकारी एजेंसियों के कामकाज का निशाना नहीं बनाया जाना चाहिए.
वहीं एलजी के इस नए फरमान पर राज्य के सीएम वी. नारायणसामी ने अभी तक कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है.
गौरतलब है कि बेदी ने जब से पुडुचेरी का लेफ्टिनेंट गवर्नर पद संभाला है, कोई न कोई विवाद उनका पीछा करता रहा है.

For More Hindi Positive News and Positive News India Follow Us On FacebookTwitter, Instagram, and Google Plus