केंद्र सरकार ने रिसर्च स्कॉलर्स का स्टाइपेंड 20% बढ़ाया, जानें अब मिलेगा कितना

Research Scholars Stipend Hikes
demo pic

Research Scholars Stipend Hikes : फेलोशिप में इससे पहले 2014 में इजाफा किया था.

Research Scholars Stipend Hikes : बुधवार का दिन उन तमाम जूनियर रिसर्च फेलो (जेआरएफ) और सीनियर रिसर्च फेलो (एसआरएफ) के लिए बड़ी खुशखबरी लेकर आया है.

बता दें की केंद्र की मोदी सरकार ने जेआरएफ और एसआरएफ उम्मीदवारों को मिलने वाले स्टाइपेंड में इजाफा करने का फैसला किया है.
अब तक मिली मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक सीनियर और जूनियर दोनों रिसर्च फेलोस् को मिलने वाले स्टाइपेंड में 20 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी की है.
यानी की अब उन्हें रिसर्च करने के लिए पहले से ज्यादा धनराशी सरकार की तरफ से दी जाएगी.

पढ़ें क्या है सभी को न्यूनतम आय देने का वायदा,किसे मिलेगा फायदा

पहले कितना और अब कितना
बता दें की पहले जूनियर रिसर्च फेलो को प्रतिमाह 25 हजार दिए जाते थे लेकिन अब इस बढ़ोत्तरी के बाद वो बढ़कर 31 हजार रुपए हो जाएंगे.
इसी तरह सीनियर रिसर्च फेलो को पहले जहां प्रतिमाह 28,000 रुपए मिलते तो उन्हें अब 35,000 रुपए मिलेंगे.
वहीं रिसर्च एसोसिएट का स्टाइपेंड भी 47 हजार से बढ़ाकर 54 हजार रुपये प्रतिमाह कर दिया गया है.
जानकारी के लिए बता दें की ये रिवाइज्ड स्टाइपेंड 01 जनवरी 2019 से लागू होगी.
ये बढ़ी हुई फेलोशिप उन उम्मीदवारों पर लागू होंगी जो केंद्र सरकार और उनके विभिन्न एजेंसियों और संस्थान जैसे विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग, रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन, मानव संसाधन और विकास मंत्रालय, भारतीय परिषद द्वारा आयोजित राष्ट्रीय स्तर की परीक्षाएं में अच्छे अंको से चयनित हुए हैं.
गौरतलब है की हर 4 साल में रिवाइस होने वाली फेलशिप में इससे पहले 2014 में इजाफा किया था.
हालांकी ऐसा माना जा रहा है की 2010 के बाद से ऐसा पहली बार है जब रिसर्चस को 20 प्रतिशत की सबसे कम बढ़ोतरी मिली है.
पढ़ें – रिटायर्ड दिव्यांग सैनिकों की बढ़ाई गई न्यूनतम पेंशन, मिलेंगे अब इतने हजार
फेलोअर्स नहीं खुश,करेंगे स्ट्राइक
इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत में कुछ फेलोअर्स ने इस इजाफे में नाखुशी जताई है.
उनका मानना है की सरकार को कम से कम हमारे फेलोशिप में 80 प्रतिशत की बढ़ोतरी करनी चाहिए.
यहां तक की कई छात्रों ने सरकार के इस फैसला के खिलाफ प्रोटेस्ट करने का भी फैसला किया है.