अब भूमिगत खदानों में भी काम कर सकेंगी महिलाएं,वो भी दिन और रात – सरकार

Womens Work In Underground Mines
demo pic

Womens Work In Underground Mines : श्रम मंत्रालय ने इस संदर्भ में नए नियम जारी किए है

Womens Work In Underground Mines : महिलाओं को समाज की मुख्य धारा से जोड़ने के लिए केंद्र सरकार ने एक नया कदम उठाया है.

दरअसल भारत सरकार ने ये ऐलान किया है कि अब से महिलाएं भूमिगत खदानों में भी काम कर सकेंगी,साथ ही उन्हें रात में खुली खदानों में भी काम करने की अनुमति रहेगी.
सोमवार को श्रम मंत्रालय ने इस संदर्भ में नए नियम जारी किए है,मंत्रालय के मुताबिक इससे महिलाओं को रोगजार मिलने में आसानी होगी.

पढ़ें – पीएम मोदी ने लद्दाख में रखी पहली यूनिवर्सिटी की आधारशिला

बता दें की खान अधिनियम 1952 के तहत अब तक जमीन के अंदर खदानों में महिलाओं को काम करने पर पांबदी थी. हालांकी इन्हें खुली खदानों में काम करने की अमुनति थी लेकिन वो भी सिर्फ दिन के समय में.
श्रम मंत्रालय की ओर से जारी बयान के मुताबिक नए नियम के तहत महिलाओं को शाम 7 बजे से सुबह 6 बजे तक खुली मैदानों में काम करने की छूट दे दी गई है.
इसके लिए सरकार ने खान कानून, 1952 की धारा 46 के प्रावधानों में संसोधन किया है.
मंत्रालय के बयान में कहा गया है की अब से खदान मालिक महिलाओं को जमीन के ऊपर फैली खानों में शाम 7 बजे से सुबह 6 बजे तक नियुक्त कर सकते हैं.
वहीं भूमिगत खदानों में भी उनकी नियुक्ति रात में की जा सकती है लेकिन उस जगह जहां निरंतर उपस्थिति की आवश्यकता नहीं होती है.

पढ़ें –जानें सरकार के इस बजट में किसान,मीडिल क्लास और श्रमिकों को क्या कुछ मिला

यानी की तकनीकी, पर्यवेक्षी और प्रबंधकीय कामों में महिलाएं रात में जमीन के अंदर की खानों में भी काम कर सकती है.हालांकी इस तरह की तैनाती के लिए महिला की लिखित सहमति होनी जरूरी है.
यही नहीं इस दौरान उन्हें सुरक्षा और स्वास्थ्य संबंधी सुविधाएं मुहैया करानी भी आवश्यक है.
सबसे बड़ी खास बात यह है की महिलाओं की तैनाती एक शिफ्ट में तीन से कम के समूह में नहीं की जा सकती.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here