China Pregnancy Kit : खबरदार ! भारत में चीन सप्लाई कर रहा लिंग परीक्षण करने वाली प्रेगनेंसी किट

china pregnancy kit
फोटो साभार- डीएनए

China Pregnancy Kit : 90 प्रतिशत मामले हो रहे खराब

China Pregnancy Kit : अगर आप बाजार से  प्रेगनेंसी किट खरीदकर खून की जांच से गर्भ में पल रहे बच्चे का लिंग परीक्षण कराने की सोच रहे हैं तो यह आपकी जान के लिए जोखिम साबित हो सकता है.

क्योंकि भारत का दुश्मन चीन अपने यहां की प्रतिबंधित जानलेवा किटों से हमारे देश में व्यापार करने की मंशा पाले हुए है.
दरअसल, चीन ने हमारे देश के मुंबई, दिल्ली, हरियाणा जैसे बड़े राज्यों में फिटल हीमोग्लविन लिंग परीक्षण की एक नई किट सप्लाई कर रहा है.
क्या है ये फिटल हीमोग्लोविन जांच ?
इंडियन फेडरेशन ऑफ अल्ट्रासाउंड इन मेडिसिन एंड बायोलॉजी (आईएफयूएमबी) के सदस्य डॉ. अतुल कुमार अग्रवाल ने बताया कि चीन से आयतित किट से न सिर्फ लिंग का पता चल रहा है, बल्कि गर्भ का चिकित्सकीय उपचार की संभावना भी खत्म हो रही है.
उन्होंने बताया कि इस किट से गर्भ धारण करने वाली महिला के खून के नमूने से उसके लिंग का पता लगाया जा रहा है.

यह भी पढ़ें Odisha Doctor : सड़क के अभाव में गर्भवती महिला को पैदल ही 8 किमी अस्पताल लेकर गया डॉक्टर

इस किट पर गर्भवति महिला की खून की दो बूंद रखी जाती है और एक मिनट में ही लड़का और लड़की होने का सूचकांक दिख जाता है.
मेडिकल साइंस में इसे फिटल हीमोग्लोबिन जांच कहते हैं. इसके अलावा किट के साथ मुहैया कराई जा रही दवा से कोख में ही लड़कियों की हत्या किए जाने की भी आशंका जताई जा रही है.
डॉ अतुल ने बताया कि उन्होंने खुद राज्य सरकार के चिकित्सा प्रमुखों और वहां के स्वास्थ्य महानिदेशकों को पत्र लिखकर  इस खतरे से अवगत कराया है.
उन्होंने कहा कि हमने अपने पत्र में प्रतिबंधित चीनी किट की लेन-देन पर कड़ाई से प्रतिबंध लगाने की मांग भी की है.
चीन की प्रतिबंधित किट से भारत में कमाए जा रहे पैसे
आपको जानकर हैरानी होगी कि जिस जेंडर चेकिंग किट से गर्भ में शिशु के लिंग की जांच की जाती है, वह किट चीन में प्रतिबंधित है. और अब उस वेस्ट किट को भारत में गैरकानूनी तरीके से खपाया जा रहा है.
यह भी पढ़ें – Facebook Blood Donar: फेसबुक के इस फीचर से आसानी से मिल सकेगा रोगियों को खून
पिछले कुछ महीनों में यूपी, उत्तराखण्ड और हरियाणा समेत दूसरे राज्यों में भारी मात्रा में ऐसी किट पकड़ी भी गई हैं.
हरियाणा में सबसे ज्यादा मामले सामने आ रहे
अकेले हरियाणा में गर्भस्थ का लिंग पता करने के 80 मामले प्रकाश में आ चुके हैं. जिसमें से 10 से ज्यादा लोगों पर कानूनी कार्रवाई भी हो चुकी हैं.
बेहद खतरनाक है लिंग परीक्षण
आपको बता दें कि लिंग परीक्षण की जांच का यह तरीका खतरे से भरा हुआ है. चिकित्सक विशेषज्ञों की मानें तो यह तरीका चिकित्सा पध्दति के बिल्कुल खिलाफ है. क्योंकि इसमें साफ तौर पर मानव की शारीरिक संरचना के विपरीत छेड़छाड़ की जा रही है.
डॉक्टरों का अनुमान है कि इसके प्रतिकूल परिणाम आने स्वाभाविक है. इस किट के प्रयोग से लगभग 100 में 90 केस खराब होने तय माने जा रहे हैं.

For More Hindi Positive News and Positive News India Follow Us On FacebookTwitter, Instagram, and Google Plus