इंटरनेट पर बिमारी का इलाज ढूंढना जोखिम में डाल सकता है आपकी जान – शोध

Online Trolling Law
demo pic

Finding Disease Cure On Internet : गूगल पर ढूंढ़ते हैं बीमारी की ड‍िटेल, तो जानिए क्‍या होता है इसका असर.

Finding Disease Cure On Internet : मेडिकल क्षेत्र में इंटरनेट का प्रचलन इतना बढ़ गया है कि आजकल हर छोटी से लेकर बड़ी स्वास्थ्य संबंधी दिक्कत की जानकारी हम तुरंत गूगल पर लेना शुरू कर देते हैं.

किसी भी बीमारी की जानकारी हासिल करना ठीक है लेकिन ली गई जानकारी से खुद ही उसका इलाज शुरू कर देना आपको जोखिम में डाल सकता है.
हाल ही में एक शोध में मेडिकल वैज्ञानिकों ने गूगल से ली गई जानकारी के बाद इलाज करने को सायबरकॉन्ड्रिया नाम दिया है.
इसमें स्वास्थ्य से जुड़ी समस्याओं से खुद ही ऑनलाइन निदान पाने की आदत पैदा हो जाती है.
इस शोध के मुताबिक कभी-कभी इंटरनेट पर स्वास्थ्य समस्याओं के बारे में सही जानकारी मिल जाती है लेकिन अधिकतर ऑनलाइन जानकारी आपकी समस्या को और बढ़ा सकती है.
यह भी पढें –  Summer’s Healthy Tips : गर्मियों में स्वस्थ्य रहने के लिए अपनाएं ये आसान तरीके
इसको लेकर इंडस हेल्थ प्लस की आरोग्यसेवा विशेषज्ञ कांचन नायकवडी कहती हैं कि आजकल खुद से ही बीमारी की जांच शुरू कर देना और दवाइयां लेना बहुत सामान्य बात है.
वहीं उन्होंने इस ऑनलाइन इलाज के बढ़ने के कई कारण बताए जिनमें समय की कमी, आर्थिक स्थिति, जागरूकता ना होना, आकर्षक विज्ञापन और औषधियों का आसानी से उपलब्ध होना शामिल है.
ऐसे में उन्होंने लोगों को सर्तक रहने की सलाह दी और कहा कि खुद से दवाइयां लेने से बीमारी का गलत इलाज होता है. साथ ही दवाइयों को लेने से शरीर पर गंभीर परिणाम होने लगते है.
यही नहीं मरीज भी डॉक्टर की सलाह से दूर हो जाते हैं जिससे दवाओं के दुष्प्रभाव व फर्जी दवाओं के प्रयोग की संभावना बढ़ जाती है, इसलिए इनसे बचने की जरूरत है.