92 दवाओं के दाम किए गए तय, डायबिटीज और कैंसर की दवाएं भी शामिल

Indian Government Ban Combination Medicine
demo pic

NPPA Fixed Medicine Rates : भारतीय फार्मा नियामक के इस फैसले से मरीजों को मिल सकती है राहत

NPPA Fixed Medicine Rates : एनपीपीए ने डायबिटीज, ब्‍लड प्रेशर और कैंसर की दवाओं के फॉर्मूला कॉम्बिनेशंस के आधार पर उनकी कीमतें तय कर दी हैं.
भारतीय फार्मा नियामक ने 92 दवाओं और उनके फॉर्मूला कॉम्बिनेशंस के दामों की कीमतें तय कर दी हैं. खास बात यह है कि इस बार की सूचि में डायबिटीज, ब्‍लड प्रेशर और कैंसर की दवाओं को भी शामिल किया गया है
बता दें कि दवाओं में कार्डियोवैस्‍कुलर बीमारियों के लिए एटॉरवास्‍टाटिन+क्‍लोपिडोग्रेल, ब्‍लड प्रेशर के लिए टेल्मिसार्टन+क्‍लोरथैलिडोन और कैंसर के इलाज के लिए ट्रास्‍टुजुमैब जैसे कॉम्बिनेशंस भी शामिल हैं.
पढ़ें – AI सिस्टम से आसान होगा आंखों की लगभग 50 बीमारियों की पहचान और उनका इलाज
नेशनल फार्मास्‍युटिकल प्राइसिंग अथॉरिटी (NPPA) ने बताया कि उसने 72 निर्धारित फॉर्मूलेशन की खुदरा कीमत तय की हैं, जिनमें 9 को संशोधित किया गया है.
वहीं प्राधिकरण द्वारा 11 निर्धारित फॉर्मूलेशन की खुदरा कीमतों में भी संशोधन किया गया है. हालांकि इन दवाओं के निर्माता ही वर्तमान नियमों के अनुसार इनकी खुदरा कीमतें तय करेंगे और इसमें वस्‍तु एवं सेवा कर को भी शामिल किया जाएगा.
दरअसल एनपीपीए ड्रग्स (प्राइस कंट्रोल) ऑर्डर (डीपीसीओ) 2013 के तहत अनुसूची 1 की आवश्यक दवाओं की कीमत तय करता है.
हालांकि दवाइयों के संबंध में जो मूल्य नियंत्रण में नहीं हैं उनपर दवा बनाने वाली कंपनियों को खुदरा राशि को अधिक से अधिक 10 प्रतिशत तक बढ़ाने की अनुमति है.
पढ़ें – पिता का धूम्रपान बच्चों के लिए बनता है कैंसर का कारण – शोध
वहीं NPPA ने कहा है कि अगर इन दवाओं में से किसी की भी खुदरा कीमत नोटिफिकेशन के अनुसार नहीं होती हैं तो बनाने वाली कंपनी या मार्केटिंग कंपनियों को एक्सट्रा राशि ब्‍याज के साथ जमा करवानी होंगी.
यही नहीं नियामक के अनुसार ब्रांडेड, जेनेरिक या दवाओं के दोनों वर्जन बेचने वाले विनिर्माता जो अधिकतम तय कीमत (प्‍लस जीएसटी) से अधिक कीमत पर इन दवाओं को बेच रहे हैं उन्‍हें कीमतों पर नजर रखनी होगी.