7 अप्रैल को ही क्यों मनाया जाता है World Health Day , जानें इस दिन का इतिहास

World Health Day
demo pic

World Health Day : इस बार की थीम है हर व्यक्ति को हर जगह स्वास्थ्य सुविधा मिले

World Health Day : आज विश्व स्वास्थ्य दिवस है, हर साल 7 अप्रैल को पूरी दुनिया भर में World Health Day मनाया जाता है.

आज से करीब 71 साल पहले 7 अप्रैल 1948 को संयुक्त राष्ट्र ने इस दिन की स्थापना करी थी.
बता दें की इस दिन को घोषित करने का मुख्य मकसद दुनिया भर के लोगों को स्वास्थ्य के प्रति जागरूक करना है.
पढ़ें नकली दवाओं से हर साल होती है 2,50,000 बच्चों की मौत, रिपोर्ट में खुलासा
7 अप्रैल ही क्यों चुना गया
जैसा की हम सभी जानते हैं कि किसी भी तारीख को एक खास दिन घोषित करने के लिए कोई ना कोई वजह जरूर होती है.
आपको बता दें कि 7 अप्रैल 1948 को ही पहली बार संयुक्त राष्ट्र ने World Health Organisation यानी की विश्व स्वास्थ्य संगठन की स्थापना करी थी.
इस दिन UN में शामिल सभी 193 देशों ने मिल कर स्विट्जरलैंड के जेनेवा में विश्व स्वास्थ्य संगठन की नींव रखी थी.
इस संगठन को स्थापित करने का मुख्य उद्देश्य दुनिया भर के लोगों के स्वास्थ्य के स्तर को बेहतर करना है.
हर इंसान के लिए सही समय पर और सभी तरह की बिमारियों का इलाज संभव कराना या अन्य स्वास्थ्य से जुड़ी परेशानियों के बारे में विचार विमर्श और उसका हल निकालना इसी संगठन का काम है.
क्या है इस साल की थीम
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक विश्व स्वास्थ्य दिवस की इस साल की थीम WHO ने EVERYONE EVERYWHERE HEALTH FOR ALL रखा है, जिसका मतलब हर व्यक्ति को हर जगह स्वास्थ्य सुविधा मिले .
गौरतलब है कि पिछले साल अवसाद की समस्या से संबंधित थीम रखी गई थी.
पढ़ेंस्वास्थ्य सेवाओं में अधिक खर्च से बढ़ रही है दुनियाभर में गरीबी – WHO
भारत के लिए प्रदूषण बड़ा खतरा
भारत में प्रदुषण मौजूदा समय की सबसे बड़ी परेशानी बनी हुई है, समय समय पर WHO खुद रिपोर्ट जारी कर हमें चेताता रहता है.
पिछले साल आई इसकी एक रिपोर्ट में खुलासा हुआ था कि देश में वर्ष 2016 में 1,10,000 बच्चों की मौत प्रदुषण से पैदा होने वाली बिमारियों की वजह से हुई है.
WHO के अनुसार इन बच्‍चों की मौत की वजह पीएम 2.5(Particulate Matter) है जो वायु प्रदूषण के कारण तेजी से बढ़ रहा है.
रिपोर्ट के मुताबिक खाना पकाने से घर के अंदर होने वाले प्रदुषण और बाहर के वायु प्रदूषण से दुनिया भर में भारत जैसे निम्न और मध्यम आय वर्ग के देशों में बच्चों के स्वास्थ्य को भारी नुकसान पहुंचा है.