साल 2016 में सड़क हादसों में रोजाना 43 लोगों ने अपनी जान गंवाई-परिवहन विभाग

demo pic
demo pic
भारतीय सड़कों पर वाहन चालक की लापरवाही के चलते हो रही दुर्घटनाओं के आकड़े काफी चिंताजनक है.
केंद्रीय परिवहन मंत्रालय के साथ राज्यों की साझा की गई रिपोर्ट के अनुसार साल 2016 में औसतन रोजाना 28 लोगों की जानें मोटरसाइकिल चलाते वक्त हेलमेट ना पहने की वजह से हुई है. जबकि 15 लोगों ने कार में सीट बेल्ट ना बांधने के कारण रोजाना सड़क दुर्घटना में अपनी जान गंवाई है.
रिपोर्ट के अनुसार सड़क दुर्घटना के मामले में साल 2016 सबसे खतरनाक रहा. 2016 में हर 100 सड़क दुर्घटनाओं में 31 लोगों की मौत हुई. जबकि साल 2015 में ये आकड़ा 29.1 था,और 2005 में 21.6 था.
टाइम्स ऑफ इंडिया पर छपि खबर के अनुसार ऐसा पहली बार हुआ है जब राज्य परिवहन विभाग ने पुलिस की मदद से सड़क दुर्घटना में हेलमेट ना पहने के कारण होने वाली मौतों का सही रिकार्ड रखा है. राज्यों ने बताया कि हादसे में होने वाली मौतों में हर पांच बाइकसवार में से एक की मौत हेल्मट नहीं पहने की वजह से हुई थी. पूरे साल में होने वाली मौतों के आधार पर ऐसे लोगों की मौत का आकड़ा 10135 था.
साल 2016 में हुए सड़क दुर्घटना के मामले में उत्तर प्रदेश का पहला स्थान है. यहां 3818 लोगों ने विभिन्न जिलों के सड़क हादसों में अपनी जान गंवाई है. वहीं दूसरे नम्बर पर तमिलनाडु 1946 और तीसरे पर महाराष्ट्र 10135 है.
इसके अलावा दूसरी तरफ कार में सीट बेल्ट ना बांधने के कारण 5,638 लोगों की मौत 2016 में हुई थी. इस मामले में भी 2741 मौतों के साथ उत्तरप्रदेश सबसे आगे है.
सभी राज्य के आकड़ों की साझा रिपोर्ट के अनुसार साल 2015 में सड़क दुर्घटना में लोगों की मौत की संख्या 1.46 लाख थी. वहीं 2016 में यह बढ़कर 1.51 लाख हो गई .
इन हादसों में मारे गए लोगों की संख्या का लगभग 68% 18 से 45 साल के बीच वाले लोग थे.
हेल्मट ना पहने को लेकर संयुक्त राष्ट्र ने पिछले साल अपने किए गए एक अध्ययन में अनुमान लगाया था कि बाइकर्स के हेल्मेट पहने की वजह से उनके जिंदा रहने की संभावना 42% बढ़ जाती है.