Bank Service Charge : इस तारीख के बाद बैंक की इन सेवाओं का लाभ लेने के लिए ग्राहक करेंगे जेब ढीली

Decision Taking RBI Board Meeting
demo pic

Bank Service Charge : सरकारी और निजी बैंकों में लागू होगा नियम

Bank Service Charge : अगर आप भी किसी बैंक के अकाउंट होल्डर है तो यह खबर आपको जानी जरूरी है क्योंकि 20 जनवरी से आपको बैंक से जुडे कुछ कामों को करने पर जेब ढीली करनी पड़ सकती है.

दरअसल 20 जनवरी 2018 के बाद से सभी सरकारी और निजी क्षेत्र के बैंक अपनी तरफ से दी जाने वाली मुफ्त सेवाओं पर शुल्क वसूलने की तैयारी कर रहे हैं.
जिसमें पैसा निकालने, जमा करने, मोबाइल नंबर बदलवाने, केवाईसी, पता बदलवाने, नेट बैंकिंग और चेक बुक के लिए आवेदन करने जैसी सुविधाएं भी शामिल हैं.
बता दें कि इन सेवाओं पर फिलहाल किसी तरह का चार्ज ग्राहकों से नहीं लिया जाता है.हालांकि इनमे से कुछ सेवाओं की अभी समीक्षा करी जाएगी.
इसके अलावा अगर आप अपने होम खाते वाली ब्रांच के अलावा किसी अन्य ब्रांच से किसी भी तरह की सेवा लेना चाहते हैं तो इसके लिए आपको पैसे देने होंगे .साथ ही इस पर बैंक द्वारा जीएसटी भी लगाया जाएगा जो आपके अकाउंट से बैंक द्वारा काट लिया जाएगा.
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक देश के बड़े सरकारी बैंक के एक वरिष्ठ अधिकारी ने इस बात की पुष्टी करते हुए बताया कि हमें अंतरिम आदेश मिल चुके हैं और सभी बैंक रिजर्व बैंक की तरफ से मिले आदेशों का पालन करते हैं.
नियमों के अनुसार संबंधित बैंक का बोर्ड सभी सेवाओं पर लगने वाले शुल्क का फैसला लेता है. बोर्ड की मंजूरी के बाद ही अंतिम फैसला लिया जाता है बैंकों के इस कदम से देशभर के सभी खाताधारक प्रभावित होंगे.
बैंक के ही एक अन्य अधिकारी ने कहा कि इस कदम से ऑनलाइन बैंकिंग को बढ़ावा मिलेगा क्योंकि ऑनलाइन बैंकिंग पूरी तरह से लागू होने के बाद चेक और डिमांड ड्राफ्ट की जरूरत नहीं रहेगी .
यह भी पढ़ें – RBI Helpline : बैंक ग्राहकों को धोखाधड़ी से बचाने के लिए जारी हुआ ये हेल्पलाइन नंबर
कई जानकारों ने करी निंदा
वहीं दूसरी तरफ कानून और कर क्षेत्र के जानकारों ने बैंको के द्वारा उठाए जाने वाले इन कदमों की निंदा की है. उनका कहना है कि बैंक एकतरफा तरीके से ऐसा फैसला ले रहे हैं, जिससे आम लोगों पर बुरा असर पड़ेगा.
एक तो पहले से ही आम जनता कम ब्याज दरों और अन्य तरह के लगाए जाने वाले चार्जों को लेकर परेशान है ऐसे में उनके द्वारा लगाए जाने वाले ये अतिरिक्त शुल्क बैंक उपभोक्ताओं पर दोहरी मार जैसे है.

For More Hindi Positive News and Positive News India Follow Us On FacebookTwitter, Instagram, and Google Plus