भारत में भिखारियों की संख्या 4 लाख से अधिक, भीख मांगने वालों में पश्चिम बंगाल टॉप पर

Global Hunger Index 2018
demo pic

Beggars In India : पूर्वोत्तर और पहाड़ी राज्यों की स्थिति बेहतर

Beggars In India : भारत सरकार में सामाजिक कल्याण मंत्री ने मंगलवार को लोकसभा में देश में भिखारियों की संख्या के आकड़े पेश किए.

मंत्री थवार चंद गहलोत ने संसद में पूछे गए सवाल के लिखित जवाब में देश भर में भिख मांगने वाले भिखारियों की संख्या का डाटा जारी किया है.
मंत्री द्वारा पेश इन आकड़ों के मुताबिक इस समय पूरे भारत में कुल 413760 भिखारी हैं जिनमें 221673 पुरुष भिखारी और बाकी 192087 महिलाएं हैं.
यह भी पढ़ें – देश में बच्चों के खिलाफ अपराध के मामलों में एक साल में हुई 11 फीसदी की बढ़ोत्तरी – NCRB
भिखारियों में पश्चिम बंगाल टॉप पर
इस सर्वे में यह पाया गया कि 81,224 भिखारियों की संख्या के साथ पश्चिम बंगाल का देश में पहला स्थान है. वहीं दूसरे स्थान पर यूपी है जहां 65835 लोग अपनी जीविका चलाने के लिए भीख मांगने का सहारा लेते हैं.
अगर अन्य राज्यों की बात करें तो आंध्र प्रदेश में 65835, बिहार में 29723, मध्यप्रदेश में 28695 और राजस्थान में 25853 भिखारी पाए गए.

http://

पूर्वोत्तर और पहाड़ी राज्यों की स्थिति बेहतर
भिखारियों की संख्या के मामलों में देश के पूर्वोत्तर राज्यों की स्थित काफी बेहतर है. रिपोर्ट के मुताबिक अरुणाचल प्रदेश में सिर्फ 114 भिखारी , नगालैंड में 124 और मिजोरम में सिर्फ 53 भिखारी हैं.
वहीं देश के दो बड़े पहाड़ी राज्यों की बात करें तो उत्तराखंड में 3320 भिखारी और हिमाचल प्रदेश में 809 भिखारी भीख मांग रहे हैं.
यह भी पढ़ें – भारत के अंदर 2 साल में 26600 छात्रों ने करी आत्महत्या, संसद में पेश हुए आकड़े
संघ शासित प्रदेशों में दिल्ली का स्थान पहला
गौरतलब है कि संघ शासित प्रदेश में भिखारियों की संख्या पर नजर डाले तो इसमें दमन और दीव में 22 ,दिल्ली में 2187,चंडीगढ़ में 121 और लक्षद्वीप में सिर्फ 2 ही भिखारी भीख मांग रहे हैं.
आपको बता दें कि यह सभी आकड़े 2011 की जनगणना के आधार पर तैयार किए गए है. इस लिए हो सकता है भिखारियों की मौजूदा संख्या अब और बढ़ या घट गई हो.