राष्ट्रपति ने 131 शौर्य पुरस्कार देने की करी स्वीकृति, मेजर आदित्य और औरंगजैब का नाम शामिल

India Independence 2018 Gallantry Awards

India Independence 2018 Gallantry Awards : भारतीय नौसेना की छह महिला अधिकारियों को भी इस मेडल से नवाजा जाएगा. 

India Independence 2018 Gallantry Awards : आज देश अपना 72वां स्वतंत्रता दिवस मना रहा है, इस मौके पर हमेशा की तरह हम सब ने आजादी दिलाने वाले अपने महानायकों को याद किया.

वहीं इस मौके पर उन नामों का भी ऐलान हुआ जिन्होंने बीते महीनों में अपने पराक्रम और बहादुरी से देश पर बुरी नजर रखने वाले लोगों से बचाया है.
बता दें कि इस बार मेजर आदित्य कुमार और आतंकियों के द्वारा अगवा कर मारे गए राइफलमैन औरंगजेब समेत 20 लोगों को बहादुरी का तीसरा सबसे बड़ा माने जाने वाला अवार्ड शौर्य चक्र के लिए नामित किया गया है .
 44 राष्ट्रीय राइफल्स से ताल्लुक रखने वाले औरंगजेब को आतंकवादियों ने जून महीने में पुलवामा से अगवा करके उनकी बर्बरता से हत्या कर दी थी.

India Independence 2018 Gallantry Awards

ईद पर अपने घर जा रहे औरंगजेब का गोलियो से भुना हुआ शव पुलवामा में कलामपुरा से करीब 10 किलोमीटर दूर मिला था.
पढ़ें – अच्छा तो इस वजह से डॉलर के मुकाबले भारतीय रुपये में हुई ऐतिहासिक गिरावट
हालांकि औरंगजेब को ये पुरस्कार पिछले साल छह नवंबर को दक्षिण कश्मीर में आतंकवाद रोधी अभियान में वीरता दिखाने के लिए दिया गया है.
वहीं शौर्य चक्र के लिए मेजर आदित्य कुमार का चयन इसलिए किया गया है क्योंकी इन्होंने 2017 में कश्मीर के बडगाम में एक आतंकवाद रोधी अभियान के दौरान उनकी बहादुरी के मिला है.
बता दें कि यह वही मेजर कुमार है जिनकी अगुवाई में उनकी यूनिट ने 27 जनवरी को शोपियां में पथराव कर रही भीड़ पर गोली चला दी थी, जिसमें तीन व्यक्तियों की मौत हो गई थी.
इसके बाद जम्मू कश्मीर पुलिस ने घटना में शामिल सैन्य कर्मियों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की थी.
India Independence 2018 Gallantry Awards
मेजर आदित्य
हालांकि केंद्र सरकार ने हाईकोर्ट में हो रही सुनवाई के दौरान कहा कि राज्य में सशस्त्र बल विशेषाधिकार कानून (आफस्पा) लागू होने की स्थिति में राज्य सरकार किसी सेवारत सैन्यकर्मी के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज नहीं कर सकती.
इसके अलावा पानी के जहाज़ से दुनिया का चक्कर लगाने वाले अभियान में शामिल रही भारतीय नौसेना की छह महिला अधिकारियों को भी इस मेडल से नवाजा जाएगा.
वहीं एकमात्र कीर्ति चक्र के लिए मरणोपरांत सिपाही वी पाल सिंह के नाम का चयन किया गया है. इन्होंने दक्षिण कश्मीर के अलगर गांव में नवंबर 2017 में आतंकवाद रोधी अभियान में अपनी जान गंवा दी थी.
बता दें कि इस बार के वीरता पुरस्कार पाने वालों की सूची में जम्मू कश्मीर के आतंकवाद रोधी अभियानों में बहादुरी दिखाने और कुर्बानी देने वाले कई सैन्य जवानों के नाम शामिल हैं.
गौरतलब है कि स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर इन पुरस्कारों के विजेताओं की आधिकारिक सूची रक्षा मंत्रालय ने जारी कर दी है.हालांकि सरकार ने उच्चतम वीरता पुरस्कार अशोक चक्र का ऐलान नहीं किया है.
पढ़ें – 14 अगस्त को पाकिस्तान क्यों मनाता है अपना स्वतंत्रता दिवस, जानिए इतिहासकारों के तर्क
राष्ट्रपति ने 131 शौर्य पुरस्कारों की दी मंजरी
राष्ट्रपति और सशसत्र बलों के सर्वोच्च कमांडर रामनाथ कोविंद ने सशस्त्र सेना कर्मियों तथा अर्धसैनिक बलों के सदस्यों को 131 शौर्य पुरस्कार देने की स्वीकृति दी है.
इनमें 1 कीर्ति चक्र, 20 शौर्य चक्र, थ्री बार सेना मेडल (शौर्य), 93 सेना मेडल (शौर्य), 11 नौसेना मेडल (शौर्य) तथा 3 वायु सेना मेडल (शौर्य) शामिल हैं.
वहीं राष्ट्रपति ने विभिन्न सैन्य अभियानों में असाधारण योगदान के लिए 26 सैन्य कर्मियों को (मेंशन-इन-डिस्पैचिस) सम्मानित किया है. इनमें से ऑपरेशन रक्षक में शामिल तीन सैन्य कर्मियों को मरणोपरांत यह सम्मान दिया गया है.