भारतीय रेल का 2017-18 का सुरक्षा रिकार्ड बेहद शानदार , टूटा 57 सालों का रिकार्ड

Railway Employee Bonus 2018

Indian Railway Safety Report 2018 : इस साल हुए 73 रेल हादसे

Indian Railway Safety Report 2018 : मोदी सरकार का रेलवे की सुरक्षा को लेकर किए जा रहे उपायों का असर अब जमीन पर दिखने लगा है.

दरअसल भारतीय रेल में रेल हादसों की संख्या करीब 57 साल बाद सबसे कम देखने को मिली है.
रेलवे के मुताबिक गत वित्त वर्ष 2017-18 में कुल 73 रेल हादसे पूरे भारत भर में हुए जबकि पिछले साल यह संख्या 104 थी.
इसी के साथ ही रेल हादसों में मरने वालों लोगों की संख्या भी 2016-17 की तुलना में 58 प्रतिशत घटी है.
इस बारे में रेलवे के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि यह सब ट्रैकों के नवीकरण की बदौलत हुआ है.
उन्होंने बताया कि इस साल रेलवे में कुल 4,405 किलोमीटर रेलट्रैक बदले गए हैं जोअब तक किसी भी वित्त वर्ष में सबसे ज्यादा है.
यह भी पढ़ें – Railway New Update : ट्रेनों में अब तेजी से यात्री कर सकेंगे टिकट बुक,रेलवे लॉन्च करेगा नई वेबसाइट और ऐप
ट्रेनों ने भी खूब चलने का बनाया रिकार्ड
रेलवे के मुतिबिक इस साल एक और नय़ा रिकार्ड रेलवे के इतिहास में बना है और वो है ट्रेनों का ज्यादा दूरी तय करने का.
बता दें कि इस वित्त वर्ष 2017-18 में ट्रेनों ने सबसे ज्यादा 170 करोड़ किलोमीटर की दूरी तय करी है सन् 1960-61 से 132 करोड़ किलोमीटर अधिक है.
मृतकों की संख्या हुई कम
गौरतलब है कि कम हुए रेल हादसों के कारण इस साल रेलवे से जुड़े विभिन्न हादसों में मरने वालों की संख्या में भी गिरावट देखने को मिली है.
रेलवे के अनुसार इस साल कुल 254 लोगों की रेल एक्सीडेंट में जानें गई है जो पिछले साल हुए 607 के मुकाबले करीब 58% कम है.
दशकों में सुधरे हालात
1960-61 : 2,131 हादसे (अब तक सबसे ज्यादा है)
1970-71 : 840 हादसे
1980-81 : 1,013 हादसे
1990-91 : 532 हादसे
2010-11 : 141 हादसे
2016-17 : 108 हादसे
2017-18 : 73
यह भी पढ़ें –  Elphinston Railway Bridge: जानिए, एक दशक में कितने लोगों ने भगदड़ में गवांई अपनी जान
रेलवे के इन ताजा आकड़ों से यह बात तो साफ हो गई है सरकार ने आए दिन ट्रेन हादसों में जिंदगी गंवाने वालों लोगों को बचाने का अब पुरा मन बना लिया है.
अब तो रेल मंत्री जी से एक गुजारिश यह भी रहेगी की जिस तरह उन्होंने हादसों में कमी लाने की सफलता पाई है उसी तरह ट्रेनों की लेटलतीफी पर भी ध्यान दे दों तो सभी रेल मुसाफिरों के लिए बड़ी राहत हो जाएगी.