अच्छा तो इस वजह से डॉलर के मुकाबले भारतीय रुपये में हुई ऐतिहासिक गिरावट

Indian Rupee Historic Fall
demo pic

 Indian Rupee Historic Fall : तुर्की में आर्थिक संकट से भारत पर पड़ रहा असर

Indian Rupee Historic Fall : स्वंतत्रता दिवस से पहले देश के आर्थिक सेक्टर से परेशान करने वाली खबर आई है.

दरअसल मंगलवार को आजादी के बाद से पहली बार हमारा रुपया डॉलर के मुकाबले 70 के पार चला गया है.
मंगलवार को 8 पैसे की मजबूती से शुरूआत करने वाली हमारी करेंसी में अब तेजी से गिरावट होनी शुरू हो गई है.बता दें कि मौजूदा अपटेड के मुताबिक डॉलर के मुकाबले रुपया अब 70.07 के स्तर पर पहुंच गया.
आर्थिक मामलों के जानकारों का मानना है कि रुपए में इतनी तेजी से गिरावट आने के पीछे तुर्की का आर्थिक संकट है.
पढ़ें – 15 अगस्त से रेलवे बदल रहा अपना टाइम टेबल, लिस्ट में देखें किस ट्रेन की क्या हुई टाइमिंग
क्या है तुर्की आर्थिक संकट
दरअसल बीते कुछ सालों से तुर्की में आर्थिक संकट पैदा हो गया है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक वहां की इकोनॉमी पिछले 4 सालों से मुश्किल हालातों से गुजर रही है.
देश का व्यापार घाटा और विदेशी कर्ज इस कदर बढ़ गया है कि वहां की सरकार को इसकी भरपाई करना बड़ी मुसीबत बन गई है.
इसका असर अब वहां की आम जनता पर भी पड़ना शुरू हो गया है, वहां महंगाई मानो सांतवे आसमान पर पहुंच गई है लोगों के लिए जरूरत की चीजें खरीदना भी मुश्किल हो रहा है.
तुर्की में आर्थिक संकट से भारत पर क्यों असर
इंडिया टूडे ग्रप से बातचीत में मार्केट एक्सपर्ट सचिन सर्वदे ने कहा कि तुर्की एक इमरजिंग मार्केट है.
इसलिए निवेशकों के मन में ये डर बैठ गया है कि अगर तुर्की जैसे बड़े और पुराने इमरजिंग मार्केट में ये हो सकता है, तो दूसरे इस तरह के मार्केट में भी ऐसा संकट तैयार हो सकता है.
इस वजह से कोई भी निवेशक अपनी बड़ी पूंजि निवेश या व्यापार करने से भारत से कतराने लगे हैं या कुछ समय के लिए इसे टालने की कोशिश में है.
सचिन कहते हैं कि तुर्की रिस्क मार्केट बन चुका है जिसका सीधा असर डॉलर के मुकाबले रुपये के गिरती स्थिति को देख कर लगा सकते हैं.
यही नही उन्होंने यह भी साफ कर दिया कि गर तुर्की आर्थ‍िक संकट से जल्द नहीं संभलता है, तो रुपये में आगे भी गिरावट जारी रह सकती है.
पढ़ें – ब्लू व्हेल के बाद अब आया “मोमो चैलेंज”, बच्चों का ब्रेन वॉश कर करवा रहा है सुसाइड

http://Nothing to worry at this stage. Rupee is depreciating due to external factors which may ease as we go forward: Economic Affairs Secretary Subhash Chandra Garg on Rupees touches 70.07 versus the US dollar (file pic) pic.twitter.com/eEv4rvgN7Z

— ANI (@ANI) August 14, 2018

सरकार का ना घबराने की सलाह
डॉलर के मुकाबले रुपए की ऐतिहासिक गिरावट के बीच सरकार की तरफ से आर्थिक मामलों के सचिव सुभाष चंद्र गर्ग ने बयान दिया है कि “स्थिति में कुछ भी चिंताजनक नहीं है”.
उन्होंने कहा कि यह गिरावट बाहर के देशों की आर्थिक कारकों की वजह से हो रही है जिसमें आगे जाकल सुधार होने की उम्मीद है.