जानिए, कौन हैं देश के बने नए मुख्य आर्थिक सलाहकार कृष्णमूर्ति सुब्रमण्यम

India's New CEA Krishnamurthy Subramanian
कृष्णमूर्ति सुब्रमण्यन

India’s New CEA Krishnamurthy Subramanian : सुब्रमण्यन बैंकिंग और इकनॉमिक पॉलिसी के बेहतरीन विशेषज्ञों में से हैं.

India’s New CEA Krishnamurthy Subramanian : अरविन्द सुब्रय्मण्य के जाने से भारत के मुख्य आर्थिक सलाहकार का पद खाली हुआ था, जिसपर अब सरकार ने कृष्णमूर्ति सुब्रमण्यन के नाम की मोहर लगाई है. 

बता दें कृष्णमूर्ति सुब्रमण्यम इंडियन स्कूल ऑफ बिजनेस में प्रोफेर के पद पर वर्तमान में काम कर रहे हैं. 
गौरतलब है कि भारत में आर्थिक मुख्य सलाहकार की न्युक्ति तीन साल के लिए होती है और इसे सरकार चाहे तो बढ़ा सकती है. 
इससे पहले मुख्य सलहाकार का कार्यकाल 4 साल चला था 
 बता दें अरविन्द सुब्रमणियन का कार्यकाल 3 साल तक चलने के बाद उसे सरकार ने एक साल और बढ़ा दिया था.

पढ़ें – खुशखबरी, केंद्रीय कर्मचारियों के NPS खाते में अब सरकार देगी 14 फीसदी योगदान

लेकिन इसके बाद सरकार ने भारतीय रिजर्व बैंक के पूर्व गवर्नर बिमल की मदद से एक समिति का गठन किया था जिसने कृष्ण्मूर्ति सुब्रमणियम के नाम की पुष्टि की है. 
जानिए अरविन्द सुब्रमणियम ने क्यों छोड़ा पद ? 
अरविन्द सुब्रमणियम के इस्तीफे की जानकरी वित्र मंत्री  अरुण जेटली ने फेसबुक पर एक पोस्ट लिखकर दी थी, इस पोस्ट में उन्होंने अरविन्द के इस्तीफे का कारण निजी बताया और कहा कि इस्तीफ़ा स्वीकार करने के आलावा और कोई रास्ता नहीं है. 
जानकारों की  माने तो अरविन्द सुब्रमनियम 28 परसेंट के टैक्स से दुखी थे, सरकार ने उनकी बात मानकर यह टैक्स कम भी किया था.
वैसे कहा  यह भी जाता है कि नोटबंदी उनकी मर्ज़ी के खिलाफ थी जिसके बारे में उन्होंने अपनी एक किताब में लिखा था ” नोटबंदी एक बड़ा, सख्त और मौद्रिक झटका था.
इस फैसले के बाद एक ही झटके में 86 प्रतिशत प्रचलित नोट को वापस मंगा लिया गया था, इस कारण वास्तविक जीडीपी वृद्धि प्रभावित हुई 
जानिए कौन है भारत के नए मुख्य सलहाकार कृष्णमूर्ति सुब्रमणियम 
कृष्णमूर्ति सुब्रमणियम ने IIT कानपुर से इंजीनियरिंग और IIM कलकत्ता से एमबीए किया है.
उन्होंने जाने-माने प्रोफेसर लुइगी ज़िंगालेस और प्रोफेसर रघुराम राजन की देख-रेख में
शिकागो-बूथ से फाइनेंशियल इकोनॉमिक्स में पीएचडी भी कर रखी है.

पढ़ेंजानिये क्या है अगस्ता वेस्टलैंड हेलिकॉप्टर घोटाला, कौन है भारत लाया गया बिचौलिया मिशेल ?

साथ ही सुब्रमण्यम ने अमेरिका के एमोरी यूनिवर्सिटी के बिजनेस स्कूल में फाइनेंस के प्रोफेसर के रूप में सेवाएं दी हैं. 
बता दें कृष्णमूर्ति बंधन बैंक , नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ बैंक मैनेजमेंट और आरबीआई अकादमी के बोर्ड में भी काम किया है.
ख़ास बात यह है कि सुब्रमण्यम की गिनती  बैंकिंग, कॉर्पोरेट प्रशासन और आर्थिक नीति में दुनिया के टॉप विशेषज्ञ में होती है.