कैट ने लिखा सरकार को पत्र, शराब बिक्री को करें डिजिटल

कैट
demo pic
कॉन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स  (कैट) के परिसंघ ने शराब की बिक्री को  मोड से करने के लिए सरकार से अनुरोध किया है
संगठन ने इसके लिए बकाएदा वित्त मंत्री अरुण जेटली को पत्र लिखकर शराब की बिक्री को डिजिटल तरीके से किए जाने का सुझाव दिया है.
आखिर क्यों जरूरी है डिजिटल भुगतान?
इसके लिए संघठन ने तर्क दिया है कि शराब की बिक्री को डिजिटल भुगतानों से करने में काफी हद तक काले धन पर रोक लगाने में मदद मिलेगी.
संगठन ने अपने पत्र के माध्यम से सरकार को बताया की शराब खरीदने के लिए भुगतान काफी हद तक नकदी में किया जाता है, जिससे व्यापारी आसानी से टैक्स चोरी करते हैं
लेकिन अगर डिजिटल मोड के माध्यम से शराब की बिक्री होगी तो काफी हद तक टैक्स की चोरी पर लगाम लगाया जा सकता है.
कैट के राष्ट्रीय अध्यक्ष बी सी भरतिया और महासचिव प्रवीण खंडेलवाल ने कहा कि वैसे तो शराब स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है, लेकिन फिर भी हर साल इसके कारोबार में बढ़ोतरी होती है.
ऐसे में शराब की बिक्री को डिजिटल भुगतान के जरिए करना अनिवार्य होना चाहिए. कैट के मुताबिक शराब की अधिकांश बिक्री पूरी तरह नकद होती है जिससे व्यापारियों द्वारा टैक्स को आसानी से बचाया जा रहा है.
कैसे कर सकते हैं भुगतान
पत्र में कहा गया है कि शराब खरीदने के लिए डेबिट कार्ड, क्रेडिट कार्ड, वॉलेट और भुगतान ऐप का इस्तेमाल किया जा सकता है.
इसके अलावा शराब की दुकानों पर क्यूआर कोड लगाया जाना चाहिए जिससे ग्राहक इसे स्कैन कर अपने मोबाइल से भी भुगतान कर सके.
गौरतलब है कि 2015 के अनुमान के अनुसार शराब और बीयर की बिक्री लगभग 1.5 लाख करोड़ रुपये सालाना है, जो कि प्रति वर्ष लगभग 30% बढ़ती है.