नए साल की शुरुआत में ही 2000 लोगों पर लगी IPC धारा, जानिए इससे जुड़ी दिलचस्प बातें

People Break Law In New Year Eve
demo pic

 
People Break Law In New Year Eve  : नए साल की रात को तकरीबन 2000 लोगों ने नियम और कानून तोड़े हैं.

People Break Law In New Year Eve : अभी से महज़ कुछ घंटो पहले तक देश नए साल के जश्न में झूम रहा था, लोग अपने परिवार वालों और दोस्तों के साथ 2019 के स्वागत में जुटे हुए थे.

कुछ लोग जहां शालीनता के साथ नए साल का आगाज करते दिखे तो वही कुछ  ने इस मौके पर देश के कानून की जमकर धज्जियाँ उड़ाई .
एक रिपोर्ट के अनुसार नए साल की रात को तकरीबन 2000 लोगों ने नियम और कानून तोड़े हैं जिनमें से 509 मामले तो सिर्फ दिल्ली से ही आये हैं.
बताया जा रहा है कि इन सभी के खिलाफ भारतीय दंड संहिता (IPC) की अलग-अलग धाराओं के तहत कार्रवाई की जाएगी.

पढ़ें – गुजरात के स्कूलों में अब से छात्र ‘जय हिंद’ या ‘जय भारत’ कहकर देंगे अपनी हाजिरी

क्या है IPC- या भारतीय दंड संहिता?
IPC, या जिसे हम हमारी भाषा में भारतीय दंड संहिता कहते हैं उसके बारे में एक दिलचस्प बात ये भी है कि ये 1 जनवरी 1862 यानि कि आज से तकरीबन 157 साल पहले लागू की गयी थी.
बताया जाता है कि जब ब्रिटिशर्स का कानून चलता था उस समय लॉर्ड मैकाले ने साल 1860 में भारतीय दंड संहिता यानी इंडियन पीनल कोड (IPC) का प्रारूप तैयार किया था.
क्या आप ये जानते हैं कि हमारे भारतीय दंड संहिता में कुल 511 धाराएं हैं, जिन्हें 23 अध्यायों में परिभाषित किया गया है.
इसके अलावा यहाँ ये भी जानना ज़रूरी है कि साल 2013 तक IPC में करीब करीब 76 संशोधन किए जा चुके हैं.
बता दें कि इन 76 संशोधनों के तहत जहाँ कुछ कानूनों को हटा दिया गया है, तो वहीँ कई धाराओं को और सख्त किया गया है.
समय-समय पर देश की संसद द्वारा IPC में संशोधन किया जाता रहा है. यहाँ ये भी जानना ज़रूरी है कि भारत की आजादी के बाद इसमें कई बड़े बदलाव किए गए हैं.
वैसे आपको यहाँ ये जानकर भी अचरज होगा कि IPC भारत के अलावा कई और देशों में भी माना जाता है.


पढ़ें – मोदी सरकार का न्यू ईयर गिफ्ट, LPG सिलेंडरों के घटाए दाम

भारतीय दंड संहिता का उद्देश्य ये है कि अगर कोई भी देश का नागरिक कोई जुर्म या अपराध करता है तो IPC उसे परिभाषित करता है और साथ-ही-साथ उसके लिए उचित दंड भी निर्धारित करता है.
वैसे यहाँ ये भी जानना जरुरी है कि भारतीय दंड संहिता जम्मू-कश्मीर और भारत की सेनाओं पर लागू नहीं होता है.
जानकारी: भारतीय दंड संहिता,भारत के अलावा, पड़ोसी मुल्क बांग्लादेश और पाकिस्तान में पाकिस्तान पीनल कोड PIC के नाम से लागू है.
इसके अलावा बर्मा, श्रीलंका, मलेशिया, सिंगापुर, ब्रुनेई आदि देशों में भी भारतीय दंड संहिता को लागू किया गया था.