पौधों एवं जानवरों की 10 लाख प्रजातियां विलुप्त होने की कगार पर – UN

Animal And Plants Extinct Species
demo pic

Animal And Plants Extinct Species : उत्पन्न हुई इस स्थिति का असली गुनहगार मनुष्य है

Animal And Plants Extinct Species : संयुक्त राष्ट्र की तरफ से हमारी पृथ्वी पर मौजूद लाखों वन्यजीव और पेड़ पौधों को लेकर एक बड़ी चिंताजनक खबर आई है.

दरअसल UN ने सोमवार को जारी अपनी एक रिपोर्ट में खुलासा किया है कि धरती पर मौजूद जानवरों एवं पौधों की करीब 10 लाख प्रजातियां विलुप्त होने के कगार पर पहुंच गई हैं.
संयुक्त राष्ट्र ने अपने आकलन में माना कि इनमें से कई प्रजातियां तो ऐसी हैं जिन पर आने वाले कुछ वर्षों में ही पूरी तरह से विलुप्त होने का खतरा मंडरा रहा है.
पढ़ेंदुनिया के टॉप 10 प्रदूषित शहरों में अकेले भारत के 7 शहर, गुरुग्राम है नंबर 1
रिपोर्ट में माना गया है कि उत्पन्न हुई इस स्थिति का असली गुनहगार मनुष्य है क्योंकी हम इंसान उसी प्रकृति को तेजी से नष्ट कर रहे हैं जिस पर उसका अस्तित्व निर्भर है और इसी का खामियाजा ये प्रजातियां भुगत रही हैं.
बता दें कि संयुक्त राष्ट्र के 400 से अधिक विशेषज्ञों के एक दल ने ‘समरी फॉर पॉलिसीमेकर्स‘ नाम से ये रिपोर्ट तैयार करी है जिसे करीब 132 देशों की एक बैठक में मान्यता दी जा चुकी है.
इस बैठक की अध्यक्षता करने वाले रॉबर्ट वाटसन ने कहा कि वनों, महासागरों, भूमि और वायु के दशकों से हो रहे दोहन और उन्हें जहरीला बनाए जाने के कारण हुए बदलावों ने दुनिया को खतरे में डाल दिया है.
वहीं वाटसन ने ये भी माना कि हम विश्वभर में हमारी अर्थव्यवस्थाओं, आजीविका, खाद्य सुरक्षा, स्वास्थ्य और जीवन की गुणवत्ता के मूल को ही नष्ट कर रहे हैं.
पढ़ें भारत में हाथियों की जनसंख्या में 10 प्रतिशत की गिरावट,सरकार निकालेगी ‘गज यात्रा’
उन्होंने कहा कि आकलन में बताया गया है कि किस प्रकार हमारी प्रजातियों की बढ़ती पहुंच और भूख ने मानव सभ्यता को बनाए रखने वाले संसाधनों के प्राकृतिक नवीनीकरण को संकट में डाल दिया है.
गौरतलब है कि कुछ विशेषज्ञों ने बताया कि करीब 6 करोड़ 60 लाख वर्ष पहले डायनोसोर के विलुप्त होने के बाद से पृथ्वी पर पहली बार इतनी बड़ी संख्या में प्रजातियों पर विलुप्त होने का खतरा मंडरा रहा है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here