आयकर विभाग ने बदला पैन कार्ड बनवाने संबंधित ये नियम, जानें

IT Department Stops Father Name Mandatory On Pan Card
Demo Pic

IT Department Stops Father Name Mandatory On Pan Card : पैन कार्ड बनवाने के लिए अब पिता का नाम जरूरी नहीं

IT Department Stops Father Name Mandatory On Pan Card : अगर आपने अब तक अपना पैन कार्ड नहीं बनवाया है या फिर बनवाने की सोच रहे हैं तो ये खबर आपके काम आ सकती है.

दरअसल आयकर विभाग ने पैन कार्ड बनवाने में पूछे जाने वाली जानकारी के नियमों में बड़ा बदलाव किया है.
विभाग अब से किसी भी पैन कार्ड आवेदनकर्ता से उसके माता पिता के अलग होने की स्थिति में पिता का नाम ना देने की अनिवार्यता को को खत्म कर दिया है.
यानि कि अब उन लोगों के लिए पैन कार्ड बनवाना पहले से सरल हो जाएगा जिनके माता और पिता किसी कारणवश अब एक साथ नहीं है.
गौरतलब है कि अब तक हर आवेदनकर्ता को फार्म भरते समय अपने पिता की जानकारी देना अनिवार्य था भले ही उसके पिता अब उसके साथ ना रह रहे हों.
पढ़ें – खाड़ी देशों के अंदर लगभग हर दिन 10 भारतीय मजदूर गंवा रहे अपनी जान
इस बारे में सेंट्रल बोर्ड ऑफ डायरेक्ट टैक्सेस (सीबीडीटी) ने एक अधिसूचना जारी कर इस नियम में बदलाव की जानकारी दी.
विभाग ने कहा कि अब आवेदन फॉर्म में ऐसा विकल्प होगा कि माता-पिता के अलग होने की स्थिति में आवेदक मां का नाम दे सकता है.बता दें कि ये नया नियम अगले महीने 5 दिसंबर से लागू हो जाएगा.
इस अधिसूचना के जरिये आयकर विभाग ने उन लोगों की चिंता को दूर कर दिया है जो अपने हर दस्तावेज में माता-पिता में अकेले मां का ही नाम चाहता है.
वहीं इस अधिसूचना में यह भी बताया गया कि एक वित्त वर्ष में 2.5 लाख रुपये से अधिक का वित्तीय लेनदेन करने वाली इकाइयों के लिए पैन कार्ड के लिए आवेदन करना अनिवार्य है.
इसके अलावा आयकर विभाग के मुताबिक अब निवासी इकाइयों के लिए उस स्थिति में भी पैन लेना होगा जबकि कुल बिक्री-कारोबार-सकल प्राप्तियां एक वित्त वर्ष में पांच लाख रुपये से अधिक नहीं हों.
घर बैंठे पाएं अपना पैन कार्ड
1. आवेदनकर्ता सबसे पहले इनकम टैक्क ई फाइलिंग की वेबसाइट के ऑफिशियल साइट के इस लिंक incometaxindiaefiling.gov.in पर क्लिक करें.
2. साइट खुलने पर आपको Instant E-Pan का ऑप्शन दिखेगा जिसपर आपको क्लिक करना होगा.
3. इसके बाद अगले पेज पर आपको Apply instant e-PAN के ऑप्शन पर क्ल्कि करना होगा.
4. इस पर क्लिक करते ही नए पेज पर आपके पास इस प्रक्रिया से संबधित गाइडलाइन प्रदर्शित होगी जिसे पढ़ने के बाद आप Next ऑप्शन पर क्लिक करेंगे.
5. फिर पेज पर खुले फार्म में आपको अपनी सही जानकारी भरनी होगी, इसके बाद फोटो और हस्ताक्षऱ की स्कैनड कॉपी को अपलोड करके फार्म को Submit करना होगा.
पढ़ें – देश में 11.44 लाख पैन कार्ड हुए निरस्त, ऐसे चेक करें आपका वैध है या नहीं
6. फार्म सब्मिट होने का बाद आपकी रजिस्टर्ड ई मेल आईडी पर @incometaxindiaefiling.gov.in की नाम से एक मेल आएगा जिसमें आपका ई-पैन भी अटैच होगा.
7. इसके बाद आप उस पैन कार्ड को डाउनलोड करके और चाहे तो उसका प्रिंट आउट निकालकर आधिकारिक प्रयोग में ला सकते हैं.
गौरतलब है कि ये सुविधा बिल्कुल मुफ्त है और सिर्फ इंडिविजुअल टैक्स पेयर्स के लिए ही है. एचयूएफ, फर्म्स, ट्रस्ट और कंपनियां ई-पैन नहीं जनरेट नहीं कर सकती.