SBI की ख़ास स्कीम: घर में रखे सोने से करें कमाई, बेहद आसान है तरीका

SBI Gold Deposit Scheme
demo pic

SBI Gold Deposit Scheme : जब घर में पड़ा हो सोना तब काहे का रोना

SBI Gold Deposit Scheme : “जब घर में पड़ा हो सोना तब काहे का रोना“, अक्षय कुमार का ये ऐड तो आप सभी तो याद ही होगा.

इस ऐड में अक्षय कुमार बताते हैं कि कैसे अगर आपके पास भी घर में सोने के आभूषण हैं तो आप ज़रूरत के समय पर उनसे कमाई कर सकते हैं.
इसी ऐड के तर्ज पर अब देश के सबसे बड़े बैंक SBI ने भी एक ख़ास स्कीम की शुरुआत की है जिसके अंतर्गत आप अपने घर में रखे सोने से बेहद ही आसानी से कमाई कर सकते हैं.
जानिए क्या है ये ख़ास स्कीम
SBI की इस ख़ास स्कीम के तहत अगर आपके पास भी सोने के गहने या सोने के सिक्‍के हैं तो आप इन्‍हें स्टेट बैंक ऑफ इंडिया गोल्‍ड डिपॉजिट स्‍कीम (R-GDS) के तहत बैंक में जमा करा कर ब्याज के साथ-साथ कई फायदें उठा सकते हैं.
इस स्कीम के अनुसार SBI आपकी ज्‍वेलरी या सोने की शुद्धता के आधार पर आपको सोने का एक जमा प्रमाण पत्र देता हैं.
पढ़ें – SBI Tax Saving Scheme : जानिए कैसे करें निवेश, मात्र इतने पैसों से आप भी बचा सकते हैं टैक्
इसके बाद जब गहने जमा की अवधि खत्‍म/पूरी हो जाती है, तब 3, 4, 5 या 6 साल बाद आप उस सोने को या तो गोल्‍ड के रुप में या कैश के रुप में ब्‍याज के साथ उस समय के दाम के आधार पर बैंक से ले सकते हैं.
इस स्कीम में कौन-कौन कर सकता है निवेश?
SBI की अधिकारिक वेबसाइट पर आपको इस स्कीम से जुड़ी सभी ज़रूरी जानकारी मिल जाएगी.
वेबसाइट में दी गयी जानकारी के मुताबिक इस स्कीम में भारत में रहने वाला हर कोई इंसान शामिल हो सकता है.
इस स्कीम के तहत आप चाहें तो सिंगल अकाउंट, या जॉइंट अकाउंट भी खुलवा सकते हैं. इसके अलावा एचयूएफ (हिन्दू अविभाजित परिवार), या कोई भी पार्टनरशिप फर्म भी इस ख़ास स्कीम में चाहे तो निवेश कर सकती हैं.
SBI Gold Deposit Scheme
कम से कम इतना सोना होना है अनिवार्य 
अगर आप भी SBI की इस ख़ास स्कीम का हिस्सा बनना चाहते हैं तो इसके लिए आपको कम से कम 30 ग्राम सोना जमा करना अनिवार्य है और ज्यादा की कोई लिमिट नहीं है.
स्कीम के बारे में कुछ और महत्वपूर्ण जानकारी
इस स्कीम में आप 1 से लेकर 3 साल के लिए अपना सोना बैंक में जमा करा सकते हैं. SBI में इस स्कीम का नाम शॉर्ट टर्म बैंक डिपॉजिट (STBD) रखा गया है.
अगर आप मीडियम और लॉन्ग टर्म के लिए बैंक में सोना जमा करवाना चाहते हैं तो इसकी जमा अवधि 5 से 7 साल और 12 से 15 साल है. आप अपने हिसाब से बैंक डिपाजिट की अवधि चुन सकते हैं.
कितना ब्याज मिलेगा?
अब सवाल उठता है कि इस स्कीम में हिस्सा लेने पर आपको ब्याज कितना मिलेगा? तो आपकी जानकारी के लिए बता दें कि STBD स्कीम में फिलहाल एक साल के लिए 0.50 फीसदी ब्याज दिया जा रहा है.
दो साल के लिए 0.55 फीसदी और तीन साल के लिए 0.60 फीसदी है. वहीं, लॉन्ग टर्म यानी 5-7 साल के लिए 2.25 फीसदी/सालाना ब्याज मिलेगा. 12-15 साल के लिए 2-5 फीसदी/सालाना का ब्याज मिलेगा.
पढ़ें – इस तरह SBI ग्राहक घर बैठे अपना बैंक अकाउंट ट्रांसफर करें मनचाही ब्रांच में
अगर स्कीम को बीच में तोड़ दिया जाये तो?
कई बार हमें अपनी स्कीम तय सीमा से पहले तोडनी पड़ जाती है. ऐसे में अगर आपके मन में भी ये सवाल है कि ऐसी स्थिति में क्या होगा तो बता दें कि एक साल के तय समय से पहले पैसा निकालने पर ब्याज दर पर पैनल्टी लगेगी.
वहीं, मीडियम टर्म वाली अवधि में निवेशक 3 साल के बाद स्कीम से बाहर हो सकते हैं. लॉन्ग टर्म वाली स्कीम से 5 साल के बाद ही बाहर निकला जा सकता हैं. इन अवधी के बीच में पैसा निकाला तो पैनल्टी लगेगी.
SBI Gold Deposit Scheme
demo pic
इस स्कीम से मिलने वाले फायदों पर एक नज़र
1.ये बात तो सभी जानते हैं कि लॉकर में रखे सोने में आपको कुछ नहीं मिलता है जबकी इस स्कीम के तहत निष्क्रिय सोना यानी की बहुत दिनों से घर पर पड़े हुए सोने पर आपको ब्‍याज भी मिलेगी. 
2. इसके बाद आपको इस स्कीम से एक बड़ा फायदा टैक्स में छूट के रूप में भी मिलेगा. कैसे? हम आपको बताते हैं, दरअसल अगर आपके पास कमाई से ज्‍यादा का सोना है तो आपको इसके लिए संपत्ति कर के तहत टैक्‍स भरना होता है.
जबकी अगर आप SBI गोल्ड डिपॉज़िट योजनाओं पर निवेश करते हैं तो आपको कोई संपत्ति कर, पूंजीगत लाभ कर या आयकर देय नहीं है. यानी कि आपको टैक्‍स में अच्छी खासी छूट भी मिल जाएगी.
3. इसके अलावा यहाँ ये भी समझने की ज़रूरत है कि ये स्कीम आपका फायदा करवा सकती है, कैसे? दरअसल जब आपकी सोना जमा योजना परिपक्व (मैचौर) होती है, तो आप मौजूदा दरों पर रिडीम करते हैं, जिसका मतलब है कि सोने की कीमतों में इजाफा हुआ है, तो आपको सीधे सीधे मुनाफा होगा.
इस स्कीम का हिस्सा बनने के बाद आप SBI की किसी भी शाखा में गोल्‍ड के मौलिक मूल्य के 75 प्रतिशत तक रुपये के ऋण का लाभ उठा सकते हैं.
यहाँ हम आपको ये भी बता दें कि लॉकर की फीस और गहनों की चोरी की कोई टेंशन नहीं होनी चाहिए क्योंकि बैंक द्वारा जारी किए गए प्रमाण पत्र अत्यंत सुरक्षित होते हैं.