SBI ने करोड़ो ग्राहकों को दी खुशखबरी, बचेंगे कुछ पैसे

SBI RTGS NEFT IMPS

SBI RTGS NEFT IMPS : ऑनलाइन लेनदेन करने पर लगने वाला शुल्क हटा दिया है.

SBI RTGS NEFT IMPS : भारत के सबसे बड़े बैंक SBI ने अपने करोड़ों ग्राहकों के लिए एक बड़ा फैसला लिया है, घबराइए नहीं ये फैसला आपको निराश नहीं बल्कि खुश कर देगा.

दरअसल स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (SBI) ने इंटरनेट या मोबाइल पर एनईएफटी (NEFT) और आरटीजीएस (RTGS) से लेनदेन करने पर लगने वाला शुल्क हटा दिया है.
बैंक के मुताबिक उसने ये कदम अपने ग्राहकों में डिजिटल लेनदेन को बढ़ावा देने के उद्देश्य से उठाया है.
गौरतलब है कि उसके इस फैसले से उन ग्राहकों को बड़ी राहत मिलेगी जो महीने में कई बार इन तरीकों से ऑनलाइन रुपया एक दूसरे के खातों में ट्रांसफर करते हैं.
यही नहीं बैंक ने तत्काल भुगतान सेवा (IMPS) से लेनदेन करने पर भी 1 अगस्त से शुल्क हटाने का निर्णय किया है.
पढ़ेंभारत में 10 वर्षो के अंदर रिकॉर्ड 27.10 करोड़ लोग गरीबी से निकले बाहर – UN

क्या अंतर है IMPS RTGS और NEFT में

IMPS का मतलब होता है इमीडिएट पेमेंट सर्विसेज यह सुविधा एनपीसीआई द्वारा दी जाती है जिसके जरिये आप 24X7 फंड ट्रांसफर कर सकते हैं.
इस सर्विस की खास बात यह है कि इसमें रियल टाइम फंड ट्रांसफर होता है और इससे आप छुट्टी के दिन भी फंड ट्रांसफर कर सकते हैं.
आईएमपीएस से आप न्यूनतम 1 रुपये और अधकितम दो लाख रुपये तक कभी भी किसी समय पैसा ट्रांसफर कर सकते हैं.
वहीं बड़ी राशि के लेनदेन के लिए आरटीजीएस (रीयल टाइम ग्रॉस सेटलमेंट) और दो लाख रुपये तक के लेनदेन के लिए एनईएफटी (नेशनल इलेक्ट्रॉनिक फंड ट्रांसफर) प्रणाली का उपयोग किया जाता है.
लेकिन एनईएफटी और आरटीजीएस से आप एक निश्चित समय तक ही फंड ट्रांसफर कर सकते हैं और सार्वजनिक अवकाश वाले दिन ये सुविधा नहीं रहती है.
पढ़ें – जानिए मोदी 2.0 के पहले बजट में आपके लिए क्या हुआ महंगा और क्या सस्ता

अभी तक कितना लगता था शुल्क

गौरतलब है कि अभी तक बैंक NEFT के लिए 1 से 5 रुपये और RTGS के लिए 5-50 रुपये शुल्क लेता था.
बैंक के प्रबंध निदेशक (खुदरा एवं डिजिटल बैंकिंग) पीके गुप्ता ने कहा कि सरकार के देश के डिजिटल अर्थव्यवस्था बनाने के दृष्टिकोण के साथ अपनी रणनीति तय करते हुए हमने योनो, इंटरनेट बैंकिंग और मोबाइल बैंक को बढ़ावा देने का निर्णय किया है.
बता दें कि रिजर्व बैंक ने सबसे पहले बैंकों से एनईएफटी और आरटीजीएस लेनदेन से शुल्क हटाने का लाभ ग्राहकों तक पहुंचाने की अपील करी थी.