आदिवासी इलाकों में पेयजल उपलब्ध कराने के लिए इन्फोसिस फाउंडेशन की पहल

इन्फोसिस फाउंडेशन
demo pic
देश की दूसरे नंबर की आईटी कंपनी इन्फोसिस की परोपकारी संस्था इन्फोसिस फाउंडेशन, विशाखापट्टनम के आदीवासी गांवो में पानी की आपूर्ति को पूरा करने के लिए एक अभियान चलाने जा रही है.
पानी की व्यवस्था के निमार्ण के लिए संस्था ने आंध्र प्रदेश की एक गैर सरकारी संगठन विशाखा जिला नव निर्माण समिति (वीजेएनएनएस) के साथ एक समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं.
गौरतलब है कि वीजेएनएनएस विशाखापत्तनम और श्रीकाकुलम जिलों के दूरदराज के आदिवासी गांवों में पेयजल उपलब्ध कराने के लिए पहले से ही काम कर रहा है.
इन्फोसिस फाउंडेशन की चेयरमैन सुधा मूर्ति ने कहा कि भारत में पानी की आपूर्ति और स्वच्छ पीने लायक पानी की कमी एक महत्वपूर्ण चिंता का विषय है.

यह भी पढ़ें- तमाम मुश्किलों के बीच भी सालाना 6000 इंजीनियरों की नियुक्ति जारी रखेगी इंफोसिस

उन्होंने कहा कि फाउंडेशन अपने इस लक्ष्य को पूरा करने के लिए स्थानीय समुदाय के लोगों की भी भागीदारी सुनुश्चित करेगा. इसके लिए वो एक कार्यशाला की शुरूआत करेंगे जहां गांव के लोगों को पानी की आपूर्ति प्रणाली को प्रभावी ढंग से संचालित करने के बारे में प्रशिक्षित किया जाएगा.
योजना पर खर्च
इस योजना में 5.92 करोड़ रुपये की राशि इस्तेमाल की जाएगी. ताकि इलाके के सभी गांवों में स्वच्छ पेयजल की प्रथाओं को बढ़ावा दिया जा सके. और प्रभावी जल प्रबंधन प्रणाली तैयार हो सके.
इस समझौता के तहत विशाखापट्टनम में 100 गुरुत्वाकर्षण युक्त पानी की पाइपलाइनों का निर्माण किया जाएगा. जिसका लाभ 100 आदिवासी गांवों और लगभग 40,000 लोगों तक सीधा पहुंचेगा.

साभार- मनी कंट्रोल