महाधिवेशन के बाद कांग्रेस में इस्तीफे का शुरू हुआ सिलसिला, जानिए आखिर क्या है इसके पीछे की सच्चाई

Congress Plenary Session
फोटा साभार - ट्वीटर

Congress Plenary Session : राहुल ने अपने भाषण में ऐसा भी क्या दिया था कि पार्टी के वरिष्ठ नेता इस कदर प्रभावित हो गए

Congress Plenary Session : हाल ही में कांग्रेस पार्टी का 84वां महाधिवेशन दिल्ली के इंदिरा गांधी इंडोर स्टेडियम में सफलता पूर्वक संपन्न हुआ.

इस अधिवेशन में कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष राहुल गांधी और अन्य बड़े नेताओं ने अपने भाषण से कार्यकर्ताओं का मनोबल  बढाने का काम किया. यहीं नहीं पार्टी के तमाम कार्यकर्ता भी अपने नेताओं को सुनने के लिए इस अधिवेशन में बढ़ चढ़ कर हिस्ला लिया.
लेकिन अचानक ऐसा क्या हुआ कि महाधिवेशन के बाद से पार्टी के शीर्ष नेताओं का इस्तीफे का सिलासिला शुरू हो गया है, आइए जानते हैं…..
यह भी पढ़ें – कांग्रेस महाधिवेशन में नए तेवर के साथ सामने आए राहुल गांधी, बीजेपी के खिलाफ कार्यकर्ताओं में भरा जोश
यूपी कांग्रेस अध्यक्ष राज बब्बर ने दिया इस्तीफा
दिल्ली में हुए कांग्रेस के महाधिवेशन के बाद पार्टी में उठापटक का दौर शुरू हो गया है. गौरतलब है कि पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी ने महाधिवेशन में युवाओं को सामने आने की अपील की थी. इस अपील के बाद से ही पार्टी के पुराने नेताओं ने अपना इस्तीफा देना शुरू कर दिया है.
मीडिया रिपोर्टस के मुताबिक यूपी कांग्रेस अध्यक्ष राज बब्बर ने अपने पद से इस्तीफा दिया है. हालांकि बताया जा रहा है कि अभी उनका इस्तीफा स्वीकार नहीं किया गया है और नया प्रदेश अध्यक्ष की नियुक्ति होने तक उन्हीं को कामकाज देखने को कहा गया है.

राज बब्बर ने अपने ट्विटर अकाउंट से इस्तीफे की ओर इशारा करते हुए जाने माने कवि केदारनाथ सिंह के निधन के बाद उनकी पंक्तियां लिखकर संकेत दिया है.

उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा कि अंत में मित्रों, इतना ही कहूंगा कि “अंत” महज एक मुहावरा है जिसे शब्द हमेशा अपने विस्फोट से उड़ा देते हैं.
गोवा कांग्रेस अध्यक्ष ने भी दिया इस्तीफा
वहीं राज बब्बर के बाद गोवा कांग्रेस अध्यक्ष ने भी अपने पद से इस्तीफा की पेशकश कर दी है. आपको बता दें कि कांग्रेस अधिवेशन में राहुल के भाषण से प्रभावित होकर गोवा कांग्रेस अध्यक्ष शांताराम नाइक पहले ही इस्तीफा दे चुके हैं.
आधिकारिक तौर अपने इस्तीफे की बात स्वीकराते हुए नाइक ने कहा कि पार्टी के महाधिवेशन में युवा नेतृत्व के लिए जगह बनाने को लेकर राहुल गांधी के भाषण से वह बहुत प्रभावित हुए हैं.
यह भी पढ़ें – ऐसे कैसे यूपी और बिहार मे मुरझा गया कमल, जानिए उपचुनाव के नतीजों का पूरा राजनीतिक विश्लेषण
कांग्रेस के नेताओं के इस्तीफे का ये है असल कारण
दिल्ली में हुए कांग्रेस के 84वें महाधिवेशन के बाद पार्टी के नेताओं के इस्तीफे का सिलासिला शुरू हो गया है.
महाधिवेशन में राहुल ने पहले तो बीजेपी सरकार पर हमला बोला, फिर उसके बाद उन्होंने अपनी पार्टी को भी एक नसीहत दे डाली.
उन्होंने अधिवेशन में आए युवाओं से अपील करी कि अब वक्त आ गया है पार्टी की कमान आप लोग संभाले. राहुल के भाषण में युवाओं को महत्व देने की बात से साफ पता चलता है कि वो अब अपनी पार्टी में बड़े पैमाने पर संगठनात्मक बदलाव करने के मूड में है जिसका असर अब पार्टी के अंदर दिखने भी लगा है.
यही वजह थी कि अधिवेशन में वरिष्ठ नेताओं के अलावा बड़ी तादाद में युवा और स्थानीय नेताओं को भी बुलाया गया था.
खैर अब देखना है कि राहुल की ये अपील पार्टी को किस दिशा में ले जाती है और क्या पार्टी के बाकि दिग्गज  उम्र दराज नेता भी राहुल की इस बात से सहमत होंगे.