इथोपिया हवाई हादसे के बाद निशाने पर आया बोइंग विमान, भारत में क्या है हलचल ?

Ethiopian Airlines Boeing 737 Max 8

Ethiopian Airlines Boeing 737 Max 8 : छह महीनों के अंदर 346 लोगों की हो चुकी है मौत

Ethiopian Airlines Boeing 737 Max 8 : इथियोपिया में हाल ही में हुए विमान हादसे के बाद बोइंग 737 मैक्स विमान को लेकर मुसाफ़िरों की सुरक्षा के लिहाज से कई तरह के सवाल खड़े हो गए हैं.

ये पहले मौका नहीं है जब इस विमान में इतने बड़े तर्ज का कोई हादसा हुआ हो ज्ञात हो इससे पहले भी साल 2018 अक्टूबर में जकार्ता में ये विमान हादसे का शिकार हुआ था. उस वक़्त भी काफी लोगों ने इस हादसे में अपनी जान गँवा दी थी.
आंकड़ों के मुताबिक महज़ छह महीनों के अंदर-अंदर अबतक 346 लोग इस विमान में हुए हादसे के चलते अपनी जान गँवा चुके हैं. 
पढ़ेंजानिए क्या होती है ‘आचार संहिता’ और क्यों इसे हर चुनाव से पहले लागू किया जाता है
तो क्या वाकई सुरक्षा के लिहाज़ से सेफ़ नहीं है बोइंग 737 मैक्स?
सोचने वाली बात है कि महज़ चंद महीनों के अंदर इतने बड़े दो हादसे होते हैं जिसमें 300 से ज्यादा लोगों की मौत हो जाती है.
ऐसे में इसी बात के मद्देनजर अब कई देशों और लगभग डेढ़ दर्जन से ज़्यादा एयरलाइन्स ने बोइंग 737 मैक्स की उड़ानों पर रोक लगा दी है.
भारत ने भी बोइंग 737 मैक्स की उड़ाने रोकी जाने की आधिकारिक कर दी है.
क्यों लिया गया ये सख्त फैसला?
बता दें बीते रविवार ही इथियोपिया एयरलाइन्स के बोइंद 737 मैक्स ने उड़ान भरी थी जिसके बाद ही खबर आई कि ये विमान हादसे का शिकार हो गया है.
इस हादसे के दौरान प्लेन में मौजूद सभी 157 लोगों ने अपनी जान गँवा दी थी जिसके बाद इस विमान को लेकर दुनिया भर में सवाल उठ रहे हैं. दोनों हादसों से पहले पायलट ने प्लेन में खराबी आने की बात कही थी.
जानकारी: चीन, इंडोनेशिया, सिंगापुर, ब्राजील, ऑस्ट्रेलिया जैसे देशों की करीब 20 एयरलाइन्स कंपनी ने इस मॉडल के जहाज़ की उड़ानें रोक दीं. 
  • पूरी दुनिया में अब तक 40% बोइंग 737 मैक्स विमान खड़े कर दिए गए.
  • चीन की एयरलाइंस के पास इस मॉडल के सबसे ज्यादा 97 विमान मौजूद हैं.
  • जनवरी तक बोइंग ने 5,011 ऑर्डर में से 370 विमान डिलीवर किए थे.
इस हादसे के बाद नागर विमानन मंत्री ने अपने बयान में कहा कि… 
इस मामले पर बात करते हुए नागर विमानन मंत्री सुरेश प्रभु ने कहा है कि, “सचिव को निर्देंश दिए गए हैं कि यात्रियों को असुविधा से बचाने के लिए आकस्मिक योजना तैयार करने के लिए सभी एयरलाइंस के साथ एक आपातकालीन बैठक करें.
स्पाइसजेट ने कहा कि…
इस बारे में स्पाइस जेट ने कहा कि, “हम बोइंग और डीजीसीए के साथ लगातार बातचीत कर रहे हैं. हम हमेशा की तरह सुरक्षा को पहले स्थान पर रखना जारी रखेंगे.
हम डीजीसीए के कल के निर्देशों के अनुरूप पहले ही अतिरिक्त एहतियाती उपाय अमल में ला चुके हैं.”
भारत में जेट एयरवेज और स्पाइस जेट के पास इस मॉडल के कुल 17 विमान हैं जो आज शाम 4 बजे से बंद किये जा सकते हैं.
पढ़ें – जानिए किस तारीख को कौन से चरण में कहां होगें चुनाव
इस बारे में कम्पनी ने क्या कहा?
इस हादसे के बारे में जब बोइंग कम्पनी से बात की गयी तो उन्होंने कहा कि, “हमारा अपने ग्राहकों को कोई नया निर्देश जारी करने का इरादा नहीं है और कंपनी की तकनीकी टीम अमेरिका और इथोपिया जांचकर्ताओं की मदद के लिए घटनास्थल पर जाएगी.”
दोनों हादसों में पायलट काफी एक्सपीरियंस वाले थे 
सिविल एविएशन विशेषज्ञ हर्षवर्धन से जब इस बारे में बात की गयी तो उन्होंने बताया कि, “डीजीसीए कल के अपने स्टेटमेंट में पायलट के तजुर्बे की बात पर ज़ोर डाल रही है पर जो हादसा हुआ है उसके पायलट काफी तजुर्बे वाले थे. ऐसे में कहीं न कहीं मैकेनिज्म में कोई प्रॉब्लम है.
शेयर में आई 13% की गिरावट
बताया जा रहा है कि रविवार के हादसे के बाद यानी की दो दिन के अंदर-अंदर बोइंग विमान का शेयर अमेरिकी बाजार में 12.76% गिर चुका है.
कंपनी का मार्केट कैप 2.10 लाख करोड़ रुपए घटकर 14.84 लाख करोड़ रुपए रह गया है.
आकड़ों के मुताबिक सोमवार को इसमें 5.3% गिरावट दर्ज हुई थी फिर मंगलवार को कारोबार के दौरान यह 7.46% नुकसान के साथ 370 डॉलर पर आ गया.
बता दें कि हादसे से पहले शुकवार को शेयर की कीमत 422.42 डॉलर थी. मार्केट कैप 16.94 लाख करोड़ रुपए था.