शाह फैज़ल : 10 साल पहले करी थी IAS परीक्षा टॉप, अब दे दिया पद से इस्तीफा

IAS Shah Faesal Resignation


IAS Shah Faesal Resignation : आतंकियों ने करी थी पिता की हत्या 

IAS Shah Faesal Resignation :  कश्मीर हाल में हो रही अपने नौजवानों की मौतों पर रो रहा है,हालांकी ये भारतीय सेना के लिए घाटी को आंतक से आजाद कराने के लिए की जा रही कार्यवाही के तहत हो रहा हैं.

लेकिन फिर भी कही ना कही इन सब से वहां की आवाम काफी परेशान और हताश दिख रही है.
वहीं रोज भारतीय न्यूज़रूमों से कश्मीर को लेकर फैलाए लाए जा रहे प्रोपेगैंडा के कारण भी वहां के लोगों के अंदर ग़ुस्सा दिन प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है, इन सबसे वो खुद को मुल्क से अलग मान रहे हैं.  
ऐसा कहने वाला कोई और नहीं बल्कि साल 2009 के UPSC टॉपर शाह फैजल हैं, उनका ये बयान उस वक़्त आया था जब आतंकी बुरहान वाणी की मौत हुई थी.
बता दें उस वक़्त शाह का फ़ोटो बुरहान के साथ वायरल हुआ था जिसकी वजह से उन्होंने मीडिया पर नाराजगी जताई थी.
अब आप सोच रहें होंगे आज अचानक हम बुरहान वाणी और शाह फैजल की कहानी आपको क्यों सुनाने लगे तो इसका विशेष कारण जान लीजिए… 
पढ़ें दुनिया भर में मानव तस्करी ले चुका है ‘भयावह’ रुप, हर तीसरा पीड़ित एक बच्चा
सिविल सेवा से दिया इस्तीफा 
शाह ने हाल ही में फेसबुक पर इस्तीफे की बात कही और सबको हैरान कर दिया है, उन्होंने लिखा कश्मीर में बेरोक हत्याओं और केंद्र सरकार से किसी भी विश्वसनीय राजनीतिक पहल के अभाव में, मैंने आईएएस पद से इस्तीफ़ा देने का फैसला किया है.
उन्होंने लिखा की मेरे लिए कश्मीरियों की ज़िंदगी मायने रखती है, ना की मेरी नौकरी. 
उमर अब्दुल्ला  ने दिया समर्थन 
शाह के इस फैसले का उमर अब्दुल्ला ने स्वागत किया और और ट्वीट किया कि बात सही है, इसके बाद अंदाजा लगाया जा रहा है कि शाह जल्द राजनीति में शामिल होंगे.
शाह ने इस्तीफे के बाद एक इंटरवयू में कहा ”मैंने कभी नहीं कहा था कि नौकरी नहीं छोड़ सकता. मेरे लिए हमेशा नौकरी एक इंस्ट्रूमेंट था, लोगों की ख़िदमत करने का.
अवाम की ख़िदमत कई तरीक़ों से हो सकती है, जो भी पब्लिक सर्विस में होते हैं वो सब लोगों की ख़िदमत करते हैं.
पिछले साल दो साल से हमने जिस तरह से मुल्क में हालात देखे, जम्मू-कश्मीर में देखे. कश्मीर में हत्याओं का एक सिलसिला देखने को मिला.” उसे मैंच चाहकर भी नजरअंदाज नहीं कर सकता.
पढ़ें – इराक में मुस्लिम बच्चियों को खतना से कुछ यूं बचा रही ‘वादी’ की महिलाएं
आतंकियों ने की थी पिता की हत्या 
साइंस से पढ़े शाह फैजल के पिता की हत्या आतंकियों ने उस वक़्त की थी जब वह मेडिकल एग्जाम की तैयारी में लगे थे.
शाह ने आईएएस की तैयारी मोमबत्ती की रोशनी में की थी क्योंकि जब वह तैयारी कर रहे थे तब कश्मीर में कर्फ्यू लगा था.
कर्फ्यू के कारण घरों की लाइट बन्द कर दी जाती थी, बता दें शाह के माता पिता दोनों सरकारी टीचर रह चुके हैं.
शाह ने जब UPSC टॉप किया था तो मनमोहन सिंह ने उन्होंने बधाई दी और वो कश्मीर का ईयूथ चेहरा बनकर उभरे थे. बता दें की शाह भारतीय प्रशासनिक सेवा में चयनित होने वाले  पहले कश्मीर थे. 
फिलहाल, उनका इस्तीफा पूरी तरह से इस बात का संकेत है कि वह जल्द राजनीति में आएंगे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here