शर्मनाक ! क्या अब अदालतें रेप पीड़िता की अंडरवियर के डिजाइन को साक्ष्य मान सुनाएंगी फैसला

Ireland Rape Victims Underwear Considered As Evidence : अदालत ने अंडरवीयर को माना सबूत, केस हार गई रेप पीड़िता

Ireland Rape Victims Underwear Considered As Evidence :  एक बार फिर दुनिया भर में इंसानियत शर्मसार हो गयी है, एक बार फिर एक महिला पुरूषवादी सोच के आगे शर्मिंदा होना पड़ा है.

फिर कुछ ऐसा हुआ है जिसने सोचने पर मजबूर कर दिया  है कि इंसान की नीच मानसिकता अभी और गिर सकती है….
मामला रेप का है, वही रेप जो महिला को मानसिक रूप से इतना अपाहिज बना देता है कि उसे खुद से ही नफरत होने लगती है. … लेकिन शायद इतना काफी नहीं है, एक महिला के साथ कुछ ऐसा हुआ है जो रेप से भी ज़्यादा घिनौना और शर्मनाक है.

Ireland Rape Victims Underwear Considered As Evidence

 आयरलैंड का है मामला 
दरअसल, आयरलैंड में 17 साल की एक लड़की के साथ रेप हुआ लेकिन उसके दोषियों को छोड़ दिया गया. अब इस बीच आरोपियों का बचाव करने वाले वकील ने कुछ ऐसा कह दिया जिसके बाद आयरलैंड की संसद तक में बवाल हो गया है.
पढ़ें कैसे इतना भयानक हो गई कैलिफोर्निया की आग, अब तक 48 लोगों की हो चुकी है मौत
क्या बोले वकील ने ? 
“आपको उसकी पोशाक़ को भी देखना होगा. उसने थोंग पहन रखा था जिसमें आगे फीते थे.”
जब आरोपी दोषी नहीं पाए गए तो ऐसे में वकील ने रेप पीड़िता के अंडरवियर पर ही सवाल खड़े कर दिए. अंडरवियर पर सवाल उठाने के बाद वकील ने कहा कहना था कि उसके और पीड़िता के बीच संबंध सहमति से बने थे.
इसके बाद वकील ने पूछा, “क्या सबूत इस संभावना से इनकार करते हैं कि वो अभियुक्त की ओर आकर्षित थीं और और किसी से मुलाक़ात करने और साथ रहने के लिए सहमत थीं?”

Ireland Rape Victims Underwear Considered As Evidence

आयरलैंड संसद में दिखाया गया अंडरवियर 
आयरलैंड की संसद रुथ कैपिंगर ने संसद में नीले रंग का फीतों वाला अंडरवियर दिखाते हुए कहा, “यहां थोंग दिखाना शर्मनाक हो सकता है. लेकिन आपको सोचना होगा कि जब एक महिला के अंडरवियर को अदालत में दिखाया गया तो उसे कैसा लगा होगा.”
अब मामले के तूल पकड़ने के बाद #ThisIsNotConsent हैशटैग के साथ ट्विटर पर अनेक महिलाओं ने अपने अंडरवियर पोस्ट किये हैं और इन्साफ की मांग की है. इसके साथ ही आयरलैंड में जगह-जगह प्रदर्शन का दौर जारी हैं.
पढ़ें यूनीसेफ ने भारत की गोल्डन गर्ल हिमा दास को बनाया यूथ एंबेसडर
यहां सोचने वाली बात यह है कि कैसे एक लड़की के साथ बलत्कार करने वालों को छोड़ दिया गया और उसके बाद लड़की के अंडरवियर पर ही सवाल उठने लगे…
दुनियाभर में महिलाओं के साथ लगातार ऐसी घटनाएं हो रही हैं जो समाज को तोड़ रही हैं,  हम उम्मीद करते हैं की जल्द 17 वर्षीय लड़की को इन्साफ मिलेगा और कम से कम लड़कियों को उनके पसंद के अंडरवियर पहनने की आज़ादी मिलेगी.