मुंबई के जंगलों में लगी आग पर पाया गया काबू, इंसान तो नहीं मगर इन्हें हुआ नुकसान

Mumbai Goregaon Fire Update

Mumbai Goregaon Fire Update : आग देखते ही देखते 4 किलोमीटर के दायरे में फ़ैल गयी और भीषण रूप ले लिया

Mumbai Goregaon Fire Update : सोमवार यानी कि 3 दिसंबर की रात जिस वक़्त सभी लोग चैन से सो रहे थे मुंबई में भीषण आग लग गयी,हालांकी ताजा रिपोर्ट के मुताबिक इस पर काबू पा लिया गया है.

लेकिन बड़ा सवाल यह कि आखिर मुंबई जैसे महानगर में ये आग इतने घंटो तक सुलगती कैसे रही ये कहें की गलीमत रही की इसमें किसी व्यक्ति के मारे जाने की खबर नहीं है.
जंगलों में लगी थी आग 
मुंबई के जंगलों में उस वक़्त आग लग गयी जब अधिकांश लोग सो चुके थे, यह आग देखते ही देखते 4 किलोमीटर के दायरे में फ़ैल गयी और भीषण रूप ले लिया. बता दें आग पोर्श एरिया में शामिल गोरेगांव के पास लगी थी.

Mumbai Goregaon Fire Update

मौके पर पहुंचा दमकल विभाग 
आग लगने की सूचना मिलते ही पुलिस समेत दमकल की कई गाड़ियां घटना स्थल पर पहुँच गयीं लेकिन काफी देर तक मेहनत करने के बाद भी आग पर काबू नहीं पाया गया.
इसके बाद कुछ दमकल कर्मचारियों ने हिम्मत दिखाकर पेड़ की टहनियों की मदद से आग पर काबू पाया और किसी बड़े नुकसान को रोक लिया.
पढ़ें बुलंदशहर में पुलिस और आम-जन के बीच हुए खूनी संघर्ष का ज़िम्मेदार कौन ?
कर्मचारियों ने आग के तेजी से फैसने का कारण हवा की तेज गति को बताया जिसकी वजह से ये भड़क उठी.
गाँव वालों के मौके पर दी गयी सूचना 
बढ़ती आग को देखकर पुलिस ने मंगलवार सुबह आस-पास के गाँव वालों को इसकी सूचना दे दी थी और देखते ही देखते हालात पर काबू पा लिया गया.
जिस वक़्त आग लगी थी दमकल विभाग के साथ एम्बुलेंस और पुलिस का भी पुख्ता इंतज़ाम देखने मिला था.
दमकल विभाग के अभिकारी ने दिया यह बयान 
दमकल विभाग के अधिकारी ने बताया कि गोरेगांव में अरूण कुमार विद्या मार्ग के नजदीक घटनास्थल एक खुला प्लॉट है जहां आग लगी थी जो की आरे कॉलोनी के नजदीक है.
शाम करीब साढ़े छह बजे आग लगने की सूचना मिली और इसके बाद  घटना स्थल पर दमकल इंजन और दो पानी के टैंकर भेजे गए.
समाजिक कार्यकर्त्ता ने आग को लेकर कही ये बात 
सामाजिक कार्यकर्ता जोरू बथेना के अनुसार- “ इसमें कोई मानवीय क्षति नहीं हुई है लेकिन पेड़ पौधों के भारी क्षति की आशंका है.
ऐसा लगता है कि कई जानवर और पक्षी इस जंगल में लगी आग में फंसे हैं. इसके कारणों का पता लगाना आवश्यक है क्योंकि यह जमीन पर अतिक्रमण का प्रयास हो सकता है.”
जानकरी के लिए बता दें अभी आग के लगने का कारण सामने नहीं आया है विभिन्न टीम इसकी जांच में जुट गयी हैं.

 मुंबई के लिए ख़ास है आरे कॉलोनी 
बता दें आरे कॉलोनी 16 वर्ग किलोमीटर के दायरे में फैला हुआ है और इसमें 12 गांव शामिल हैं. ख़ास बात यह है कि इसकी स्थापना 1949 में तत्कालीन प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू ने की थी .
पढ़ें – Bhopal Gas Tragedy 1984 : 34 साल बाद भी नहीं भूल सकते वो रात,आज भी दर्द से कराह रहा है शहर
स्थानिय जनजातिय लोगों के अनुसार इस आग से इलाके में रहने वाले जनजातीय निवासियों पर तो खतरा मंडरा ही रहा है. साथ ही पेड़-पौधों और वन्यजीवों को भी नुकसान पहुंचने की संभावना है.
2 दिन पहले भी मुंबई में लगी थी आग 
जंगलों में लगी इस आग से मात्र दो  दिन पहले भी मुंबई में आग लगी थी, यह आग एक बड़ी इमारत में लगी थी जिसमें जलकर एक महिला की मौत हो गई थी. इस घटना में 19 लोग भी गंभीर रूप से घायल हुए थे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here