योगी सरकार के बजट में महिलाओं के लिए क्या ? जानें

ovisions For Women In UP Budget 2019-20
PC - Social

Provisions For Women In UP Budget 2019-20 : पिछले साल 2018-19 से 12 फीसदी ज्यादा है इस बार का बजट

Provisions For Women In UP Budget 2019-20 : देश के सबसे बड़े सूबे उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने अपना 2019-20 का बजट पेश कर दिया है.

गुरुवार को विधानसभा में वित्त मंत्री राजेश अग्रवाल ने अपनी सरकार के इस तीसरे बजट को पढ़ा.
बता दें कि इस बार यूपी सरकार ने 4 लाख 70 हज़ार 684 करोड़ रुपये का बजट पेश किया है जो की पिछले साल 2018-19 से 12 फीसदी ज्यादा है.
हालांकी इसमें कोई चौंकने वाली बात नहीं है क्योंकी कुछ ही महीनों में लोकसभा के चुनाव होने है और ऐसे में पहले से ही अंदाजा लगाया जा रहा था की सरकार लोगों को खुश करने के लिए बजट में हर तरीकों पर जोर देगी.
बजट पेश करने के बाद मीडिया को संबोधित करते हुए सीएम योगी ने कहा कि “यूपी के बजट में किसान महिला,अल्पसंख्यक व युवा सहित हर तबके का ध्यान रखा गया है”.
पढ़ेंरेलवे और शिक्षा क्षेत्र को बजट में क्या और कितना मिला,जानें
खैर हम अपनी इस खबर में उन योजनाओं के बारे में बताएंगे जिनसे खासकर महिलाओं को फायदा होने वाला है.
बता दें की बजट में वित्त मंत्री राजेश अग्रवाल ने महिलाओं व बेटियों की शिक्षा के लिए कुछ नई योजनाओं की शुरूआत करी है उनके लिए पैसों का आवंटन भी कर दिया है,आइए जानते हैं…
कन्या सुमंगला योजना
इस योजना को शुरू करने के लिए सरकार ने अपने बजट में 1200 करोड़ रुपए का प्रावधान किया है.
बता दें की कन्या सुमंगला योजना के तहत बेटी के पैदा होने से लेकर उसकी पढ़ाई, उच्च शिक्षा और आर्थिक सहायता इस योजना के तहत दी जाएगी.
इस योजना के बारे में में बताते हुए वित्त मंत्री ने कहा कि बेटियों के स्वास्थ्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में वृद्धि करने, उनके भविष्य को उज्जवल बनाने, समाज की महिलाओं के प्रति सोच में सकारात्मक परिवर्तन लाने एवं उनके प्रति सम्मान भाव जागृत करने के उद्देश्य से सरकार इस योजना की आगामी वित्त वर्ष से ला रही है.
इसके अलावा बजट में किशोरी बालिका योजना के लिए 156 करोड़,महिला सम्मान कोष के लिए 103.70 करोड़ की व्यवस्था भी करी गई है.
विधवा महिलाओं को भी मिली राहत
यही नहीं बजट में सरकार ने निराश्रित विधवा महिलाओं का ध्यान रखते हुए उनके भरण-पोषण व बच्चों की शिक्षा के लिए 1410 करोड़ रुपये की व्यवस्था करी है.
साथ ही आंगनबाड़ीकर्मियों और सहायिकाओं को मंदी के भुगतान के लिए 1988 करोड़ रुपए का भी प्रावधान किया गया है.

पढ़ें –जानें सरकार के इस बजट में किसान,मीडिल क्लास और श्रमिकों को क्या कुछ मिला

प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना के लिए भी हुआ बजट में आवंटन
गौरतलब है की राज्य सरकार के इस बजट में प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना के लिए भी 291 करोड़ रुपए की व्यवस्था करी गई है.
बता दें की इस योजना के तहत पहली बार मां बनने वाली महिलाओं को 6000 रुपए की आर्थिक मदद मिलती है.
सरकारी नौकरी वाली महिलाओं को छोड़कर ये हर गर्भवति और स्तनपान कराने वाली महिला को दी जाती है.
इस योजना का लाभ पाने के लिए किसी तरह की आय लिमिट नहीं निर्धारित की गई है, बस बच्चे को जन्म देने वाली मां की उम्र 19 साल होना जरूरी है.