रेलवे और शिक्षा क्षेत्र को बजट में क्या और कितना मिला,जानें

Rail And Education Budget 2019

Rail And Education Budget 2019 : 2018 भारतीय रेलवे के इतिहास का अब तक का सबसे सुरक्षित साल रहा है.

Rail And Education Budget 2019 : वित्त वर्ष 2019-20 के लिए पीयूष गोयल ने अपनी सरकार का अंतरिम बजट पेश कर दिया है.

इस बजट में देश के आम लोगों के साथ साथ रेलवे के लिए आवंटित बजट पर भी तमाम अर्थशास्त्रियों की निगाहें थी.
बता दें की मोदी सरकार बनने से पहले केंद्र सरकारें अलग से रेल बजट पेश करती थी,मगर इनकी सरकार आने के बाद वित्त बजट में ही रेलवे को भी शामिल कर लिया गया.
संसद में अंतरिम बजट पेश करते हुए वित्त मंत्री पीयूष गोयल जो की मौजूदा रेल मंत्री भी है ने कहा की इस बार का रेल बजट कुल 64 हजार 587 करोड़ का है.
इस दौरान मंत्री जी ने ये भी बताया की ब्रॉड गेज नेटवर्क के सभी मानव रहित क्रासिंग को पूरी तरह से खत्म कर दिया गया है.
पढ़ें जानें सरकार के इस बजट में किसान,मीडिल क्लास और श्रमिकों को क्या कुछ मिला
पीयूष गोयल ने कहा की 2018-19 भारतीय रेलवे के इतिहास का अब तक का सबसे सुरक्षित साल रहा है.
उन्होंने कहा, ‘रेलवे को बजटीय आवंटन में वित्त वर्ष 2019-20 के लिए 64,587 करोड़ रुपये प्रदान किया गया है.
जबकी रेलवे का कुल पूंजीगत खर्च 1,58,658 करोड़ रुपये रहेगा जो की अपने आप में ऐतिहासिक है .
श्री गोयल ने यह भी कहा कि रेलवे का परिचालन अनुपात कम होकर वित्त वर्ष 2019-20 में 95 फीसदी रहेगा, जो की पिछले वित्त वर्ष 2018-19 में 96.2 फीसदी था.
पूर्वोत्तर के राज्यों मे बढ़ी रेल सेवा
पीयूष गोयल ने बजट पेश करने के दौरान कहा की पिछले सालों में देश के पूर्वात्तर राज्यों में रेल सेवाओं का विस्तार किया गया.
जिसमें सबसे बड़ा लाभ मेघालय,त्रिपुरा और मिजोरम को मिला जहां पर आजादी के इतने सालों बाद भी लोग रेल सेवा से अछूते थे.
वहीं उन्होंने ये भी बताया की इस बार के बजट में पूर्वोत्तर के राज्यों में पिछले साल के मुकाबले इस बार 21 फीसदी ज्यादा का रेल बजट पेश किया गया है.
T-18 रेलवे की बड़ी उपलब्धि
वंदे मातरम एक्सप्रेस जिसे हम T-18 के नाम से भी जानते हैं उसे बारे में पीयूष गोयल ने कहा पहली बार भारत में हाई स्पीड ट्रेन उतारी गई है.
उन्होंने बताया की ये पूरी तरह से भारतीय इंजीनियरों के द्वारा तैयार की गई स्वदेश निर्मित ट्रेन है.
मंत्री जी ने कहा की वर्ल्ड क्लास सुविधाओं वाली ये ट्रेन लोगों के लिए बेहद लाभकारी होगी.
पढ़ें – इस गणतंत्र दिवस ये सब हुआ पहली बार, जानें जरूर
शिक्षा बजट कितना हुआ आवंटित
बता दें की शिक्षा के क्षेत्र में सरकार ने 2019-20 के लिए 93,847.64 करोड़ रुपए आवंटित किया है जो की पिछले वित्त वर्ष से 10 फिसदी ज्यादा है.
बजट पेश करने के दौरान पीयूष गोयल ने बताया की उच्च शिक्षा के लिए 37,461.01 करोड़ रुपए तथा स्कूली शिक्षा के लिए 56,386.63 करोड़ रुपए आवंटित किए गए हैं.
वहीं इनके अलावा सरकार ने अनुसंधान एवं अभिनव पहलों के लिए 608.87 करोड़ रुपए आवंटित किए हैं.
तबियत खराब होने के कारण अरुण जेटली ने नहीं किया बजट पेश
बता दें की केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली की तबीयत खराब होने के कारण वित्त मंत्रालय का प्रभार पीयूष गोयल को दिया गया है. जिस कारण उन्होंने ये अंतरिम बजट पेश किया.
हालांकी वित्त मंत्री पीयूष गोयल ने अपने बजट स्पीच की शुरुआत में अरुण जेटली को याद किया और उनके शीघ्र स्वस्थ होने की कामना भी करी.