सूरत- 15 वर्षीय युवक ने 45 लाख के हीरे लौटाकर पेश की ईमानदारी की मिसाल

demo pic
demo pic
हीरे की नगरी कहे जाने वाले सूरत की चमक को एक 15 साल के युवक ने अपनी ईमानदारी पेश कर और अधिक चमका दिया है. 15 वर्षीय चौकीदार के बेटे विशाल ने क्रिकेट खेलते समय मिले 45 लाख के हीरे को अपने पास रखने की बजाए उसे सही सलामत उसके असली मालिक के पास पहुंचा दिया
उसकी इस ईमानदारी को देखते हुए उसे सूरत हीरा संघ के द्वारा शनिवार को सम्मानित भी किया गया है.
क्या था मामला
विशाल 15 अगस्त की शाम सड़क किनारे क्रिकेट खेल रहा था. तभी उसके दोस्त ने गेंद सड़क पर मार दी ,जब विशाल गेंद को ढ़ूंढ़ने सड़क पर गया तो उसका हाथ गाड़ीयों के बीच गिरे हीरे की थैली पर पड़ गया. जिसे उसने घर पर लाकर अपने माता-पिता को दिखाया.
हीरे को देखते ही निशाल के पिता ने भी इसे तुरंत लौटाने के बारे में सोचा और जाकर उसे हीरा संघ को लौटा दिया. फिर संघ ने सीसीटीवी फुटेज की मदद से उस हीरे को असली मालिक तक पहुंचा दिया.
संघ ने किया सम्मानित
शनिवार को सूरत में आयोजित एक कार्यक्रम में संघ ने विशाल उपाध्याय और उसके पिता फूलचंद को हीरे की थैली लौटाने के लिए सम्मानित किया.
संघ के पूर्व अध्यक्ष दिनेश नवादिया ने बताया कि संघ ने विशाल की ईमानदारी के सम्मान में उसे 41000 हजार रुपए की इनाम राशि देने का फैसला किया है.
हीरा मिलने के बाद व्यापारी ने कहा कि वह विशाल का बहुत आभारी है. उन्होंने कहा कि हीरा ना मिलने से मुझे बहुत बड़ा नुकसान होता. मुझे इस हीरे की रकम चुकाने के लिए अपमा घर तक बेचना पड़ता.