इस गणतंत्र दिवस ये सब हुआ पहली बार, जानें जरूर

70th Republic Day Parade 2019

70th Republic Day Parade 2019 : इतिहास में पहली बार महिला अधिकारी ने किया पुरूष दस्ते का नेतृत्व

70th Republic Day Parade 2019 : देश ने अपना 70वां गणतंत्र दिवस बड़े ही शान से बिना किसी अवरोधक के अच्छे से मना लिया.

हर साल की तरह इस बार भी दिल्ली के राजपथ में हमारी तीनों सेनाओं द्वारा शानदार परेड का आयोजन हुआ जिसे देखने के बाद हमें अपने देश पर फक्र करना के एक और मौका मिला.
लेकिन आपको बता दें की 70वें गणतंत्र दिवस के परेड में कई ऐसी चीजे दिखी जो भारत के इतिहास में पहली बार थी.
हमारी ये खबर आपको इसी बारे में अवगत कराने को लेकर है, तो चलिए फिर जानते हैं..
पढ़ें सेना को सलाम, बारामुला बना घाटी का पहला आंतकवाद मुक्त जिला
महिला अधिकारी ने किया पुरूष दस्ते का नेतृत्व
इस गणतंत्र दिवस पहली बार एक महिला अधिकारी पुरुष दस्ते का नेतृत्व किया.
लेफ़्टिनेंट भावना कस्तूरी भारतीय सेना की पहली ऐसी महिला हैं, जो आज़ादी के बाद पहली बार 144 पुरुष सैन्य दल की परेड को लीड किया.
ब्रिटिश धुन की जगह बजाई गई भारतीय धुन
राजपथ पर होने वाली इस परेड में पहली बार ब्रिटिश धुन नहीं बल्की सेना की खुद की इंडियन मार्शल धुन बजाई गई, जिसका नाम शंखनाद है.
इस मार्शल ट्यून को सिख लाइट इंफ्रैंटी, महार रेजिमेंट और लद्दाख स्काउट्स के सामूहिक सैन्य बैंड ने बजाया.
बता दें की शंखनाद आजाद भारत की पहली मार्शल ट्यून है जो भारतीय शास्त्रीय संगीत पर आधारित है.
इस धुन को भारतीय शास्त्रीय संगीत की प्रफेसर तनुजा नाफडे ने तैयार किया है.
सुभाष चंद्र बोस की INA के सैनिकों ने किया परेड
इस बार गणतंत्र दिवस की परेड में इंडियन नैशनल आर्मी के चार पूर्व सैनिक दिखाई दिए.
इन सभी की उम्र 90 साल से अधिक हैं और इन्होंने सुभाष चंद्र बोस की गठित सेना में अपनी सेवा दी थी.
इनके नाम परमानंद यादव, हीरालाल, लालती राम और भागलमल हैं.
पढ़ें – आतंकवाद छोड़ सेना में शामिल हुए शहीद नजीर अहमद को मिलेगा अशोक चक्र
महिला सशक्तिकरण का दिखा जोश
इतिहास में पहली बार असम राइफल के महिला दस्‍ते ने राजपथ पर देश की शान बढ़ाई.
वहीं सेना के सिग्नल कोर की डेयरडेविल्स टीम में पहली बार एक महिला अधिकारी कैप्टन शिखा सुरभि शामिल हुई.
उन्होंने अपने स्टंट से महिला शक्ति का एहसास दिलाया साथ ही आगे की जनरेशन के लिए भी एक बेहतर उदाहरण स्थापित किया.
दिखाई दी गोरखा ब्रिगेड
ये पहली ही बार ही था की गोरखा ब्रिगेड राजपथ के परेड में हिस्सा लिया.
बता दें की सात अलग-अलग गोरखा रेजिमेंट को मिलाकर गोरखा ब्रिगेड बनती है.हमारे सेना अध्यक्ष बिपिन रावत का संबंध भी इसी ब्रिगेड से है.