मिलिए 96 साल की उम्र में परीक्षा टॉप करने वाली केरल की दादी से, बन चुकी हैं मिसाल

96 Years Old Kerala Karthyayani Amma Top Exam
फोटो साभा - सोशल

 96 Years Old Kerala Karthyayani Amma Top Exam : 98 प्रतिशत अंक लाकर अपने साथी परीक्षार्थियों के बीच किया टॉप

96 Years Old Kerala Karthyayani Amma Top Exam : कहते हैं पढ़ने लिखने की कोई उम्र नहीं होती, कोई भी इंसान जब चाहे जितना चाहे पढ़ सकता है.

हालांकी वो बात अलग है कि बहुत कम ही लोग रहते हैं जो इन बातों पर अमल करते हैं मगर फिर भी ऐसे लोगों की भी संख्या कम नहीं जिन्होंने अपनी आधी से ज्यादा उम्र बीत जाने के बाद शिक्षा में खुद का नाम रोशन किया है.
इसका ताजा उदाहरण केरल में देखने को मिला जहां एक 96 साल की बूढी महिला ने राज्य की साक्षरता परीक्षा को ना केवल पास किया बल्कि उसकी टॉपर भी बनी.
कार्तियानी अम्मा नाम की इस वृद्ध महिला ने साक्षरता परीक्षा (Literacy Test) में 98 प्रतिशत अंक लाकर अपने साथी परीक्षार्थियों के बीच टॉप किया है.
यहां सबसे बड़ी हैरानी की बात तो यह है कि कार्तियानी अम्मा अपने जीवनकाल में कभी स्कूल नहीं गई ऐसे में उनकी यह उपलब्धि पूरे देश के हर आयु के वर्गों के लिए काफी प्रेरणादायक है.
पढ़ें चलने में थे असमर्थ, टूटी पटरी देखकर एक टांग से लगाई दौड़ और बचाई सैकड़ों जानें
बता दें कि अम्मा ने 4 स्तरों- कक्षा I,II,III और IV में आयोजित परीक्षा में टॉप किया.इस परीक्षा में उनके अलावा 43 हजार बच्चे सम्ममिलित थे.

http://

मुख्यमंत्री ने किया सम्मानित
गौरतलब है कि गुरूवार 1 नवंबर को कार्तियानी अम्मा की इस कोशिश को देखते हुए मुख्यमंत्री पिनारायी विजयन ने उन्हें योग्यता प्रमाणपत्र से सम्मानित किया.
इस स्ममान के बाद कई मीडिया चैनलों और अखबारों से बात करते हुए अम्मा ने कहा कि उन्हें यह मालूम था कि वो जितना पढ़ाई करेंगी उनके परीक्षा में उतने ही ज्यादा नंबर आएंगे.
अपनी प्रेरणा के बारे में बात करते हुए उन्होंने कहा कि मैं छोटे बच्चों को पढ़ाई करती देखती थी, मैं भी चाहती थी कि पढ़ाई करूं. ऐसे में जब बच्चों ने मुझसे इस बारे में पूछा तो मैंने कहा क्यों नहीं, मैं भी पढ़ूंगी फिर मैंने पढ़ना लिखना शुरू कर दिया.

कंप्यूटर भी चाहती हैं सीखना
आपको बता दें कि इस परीक्षा में पास होने के बाद अम्मा ने अपनी चौथी कक्षा तक की पढ़ाई पूरी कर ली है. अब उनकी पूरी कोशिश 10वीं कक्षा को पास करने की है.
यही नहीं इसके बाद उनकी कंप्यूटर सीखने की भी इच्छा है. NDTV से बातचीत में उन्होंने कहा कि वो खाली समय में कंप्यूटर चलाएंगी और टाइपिंग सीखेंगी.
पढ़ें – मिलिए अहमदाबाद के ‘Monkey Man’ से, हाथ से खिलाते हैं बंदरों को 1700 रोटियां
अपने पुराने दिनों को याद करते हुए उन्होंने कहा कि जब मुझे पढ़ाई करनी चाहिए थी तो मैं ऐसा नहींकर पाई मगर अब मुझे खुशी है कि मैं दोबारा से पढञ लिख रही हूं.
केरल साक्षरता मिशन के ‘अक्षरालाक्षम‘ साक्षरता कार्यक्रम में 100 में से 98% मार्क्स लाए हैं. वो इस परीक्षा में हिस्सा लेने वाली सबसे बुजुर्ग महिला थीं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here