मिलिए अहमदाबाद के ‘Monkey Man’ से, हाथ से खिलाते हैं बंदरों को 1700 रोटियां

Ahmedabad Monkey Man Swapnil Soni : बंदरों को खिलाने के लिए बनवाते हैं 700 रोटियां

Ahmedabad Monkey Man Swapnil Soni : भारत में बंदरों को भगवान हनुमान का सेवक माना जाता है, हिंदू समाज में तो बकाएदा इनकी पूजा तक लोग करते हैं.

अपने चंचल अंदाज और कूद-फांद करने वाले ये बंदर बच्चों से लेकर बूढे तक सभी के लिए बेहद आकर्षण का केंद्र रहते हैं.
हम में से कई लोग इन्हें अक्सर खाने पीने की चीजे देते हैं, लेकिन ऐसे बहुत कम ही लोग होंगे जो निरंतर उनके भोजना पानी का इंतजाम करें.
पढ़ें दिवाली बोनस में कार और फ्लैट देने वाले 5वीं पास ढोलकिया कहां से लाते हैं इतना पैसा ?
मगर अहमदाबाद के स्वप्निल का इन बंदरों से रिश्ता इतना अनोखा है कि ये कभी कभार नहीं बल्कि हर सोमवार बंदरों के भोजन पानी का इंतजाम करते हैं.
Ahmedabad Monkey Man Swapnil Soni
PC – Facebook
स्वप्निल पिछले 10 सालों से लगातार प्रत्येक सोमवार बंदरों को रोटी खिला रहे हैं. इसके लिए वो 1700 रोटी बनाते हैं और फिर अपने हाथों से सभी बंदरों-लंगूरों को इसे खिलाते हैं.
बंदर और लंगूरों से स्वप्निल का ऐसा रिश्ता बन गया है कि वो उनकी गोद में बैठकर रोटियां खाते हैं यही नहीं हर रोज उसी समय और जगह उनके आने का इंतजार करते हैं.
बंदरों से स्वप्निल का लगाव देखकर आसपास के लोग अब उन्हें Monkey Man कहने लगे हैं.
Ahmedabad Monkey Man Swapnil Soni
Pic Credit – Facebook
बंदरों को खिलाने के लिए तोड़ी पॉलिसी
ANI से बातचीत में स्वप्निल ने बताया कि करीब 6 महीने पहले वो आर्थिक संकट का सामना कर रहे थे, लेकिन इसके बावजूद उन्होंने बंदरों को रोटी खिलाना नहीं छोड़ा.
पढ़ें–  सलाम ! गांव के बच्चों को स्कूल भेजने के लिए खर्च कर दी अपनी पूरी कमाई
रोटी के लिए पैसों का इंतजाम करने के लिए उन्होंने अपनी बेटी की पॉलिसी तक तुड़वा दिया.
स्वप्निल का कहना है कि बंदरों संग उनका रिश्ता ऐसा हो गया है कि वो अब उन्हें अपने परिवार का ही एक सदस्य मानते हैं.