कीकी के बाद अब पानी बचाने के लिए सोशल मीडिया पर वायरल हुआ चैलेंज

Chennai Rain Water Harvesting Challenge
demo pic

Chennai Rain Water Harvesting Challenge : अभी इसे चेन्नई में रहने वाले लोगों तक ही सीमित रखा जा रहा है.

Chennai Rain Water Harvesting Challenge : कुछ समय पहले सोशल मीडिया पर वायरल हुए कीकी चैलेंज ने बहुत तहलका मचाया था.

इस चैलेंज को पूरा करने के लिए लोगों को चलती गाड़ी से उतरकर डांस करते हुए अपना वीडियो बनाना था. देखते ही देखते इसका क्रेज इतना बढ़ गया कि सरकारों को इससे बचने के लिए चेतावनी तक जारी करनी पड़ी.
अब एक बार फिर एक नया चैलेंज वायरल हो रहा है, हालांकी अभी इसे चेन्नई में रहने वाले लोगों तक ही सीमित रखा जा रहा है.
लेकिन इस बार चैलेंज देने वाला और उसका मकसद दोनों ही बेहद खास है, यही वजह है कि इसमें प्रशासन भी राजी है .
पढ़ें – चेन्नई के इस सरकारी स्कूल में शिक्षक भर रहा अपने भूखे छात्रों का पेट
दरअसल चेन्नई में बारिश का पानी बचाने के लिए लोगों से अपील की जी रही है कि वह ऐसा करते हुए अपना वीडियो या फोटो शूट कर उसे सोशल मीडिया पर अपलोड करें.

Chennai Rain Water Harvesting Challenge

बता दें कि शहर के लोगों को 5 चरणों में इस चैलेंज को पूरा करना है जिसमें पहला छत की सफाई,दूसरा पानी की पाइपलाइनों की उचित जांच,तीसरा आस-पास के कचरे को साफ करना,चौथा वर्षा जल संयंत्र ढांचे को चेक करना और आखिरी के पांचवें चरण में उसमें पानी डालकर उसे चेक करना है.
यही नहीं चेन्नई के लोगों के पास ये खास वीडियो अपलोड करके इनाम जीतने का भी मौका होगा. इसके अलावा प्रोफेशनल द्वारा शूट किए गए वीडियो को मॉल और पब्लिक जगहों पर जागरुकता के लिए भी चलाया जाएगा.
TOI की रिपोर्ट के मुताबिक इस चैलेंज में भाग लेने वाले सभी प्रतिभागियों को बैज दिया जाएगा साथ ही प्रत्येक क्षेत्र से तीन विजेताओं को चुनकर उन्हें पुरस्कृतकिया जाएगा.
इनके अलावा सीएमडब्ल्यूएसएसबी स्कूलों के छात्रों को भी इसमें भागीदार बनाने के लिए ड्राइंग और दीवार चित्रकला प्रतियोगिताओं का आयोजन करा रहा है.
एक अधिकारी ने बताया कि चेन्नई में 8.93 लाख सरकारी और गैर सरकारी रेन हर्वेस्ट सिस्टम मौजूद है मगर परेशानी उनकी देखरेख मे है.
पढ़ें – विश्व साक्षरता दिवस 2018 : जानें क्यों पड़ी इस दिन को मनाने की जरूरत
इसलिए विभाग ने सोचा कि क्यों ना हम इस मॉनसून लोगों के रेन हार्वेस्टींग सिस्टम की मेंटेनेस कराने पर जोर दें और इसी को बढ़ाने के लिए यह कदम उठाया जा रहा है.
इसके साथ ही बोर्ड ने अधिकारियों को फील्ड पर लगातार चक्कर लगाकर जांच करने को भी कहा है. इसके लिए 120 असिस्टेंट इंजीनियर्स,20 रेन वाटर हार्वेस्टिंग स्टॉफ,15 एरिया इंजीनियर,40 डीप्टी इंजीनियर और अन्य स्टाफ को जिम्मदारी सौंपी गई है जो हर दिन करीब 10 से 20 घरों की जांच करेंगे.
अधिकारी के मुताबिक उनके इस चैलेंज से करीब 25 हजार लोगों की जुडने की संभावना है.