Daughter Save Father Life : बेटी ने पिता की जान बचाने के लिए दिया अपने लिवर का एक हिस्सा

daughter save father life
पूजा बिजारनिया

Daughter Save Father Life : मां बाप के लिए सबकुछ करने में समर्थ हैं बेटियां

Daughter Save Father Life : यह बात हर कोई जानता है कि धरती पर मां-बाप से बड़ा मददगार कोई नहीं होता , हमारे पैदा होने से लेकर साथ रहने तक मां-बाप ना जाने कितने दुख तकलीफें झेलकर हमारा हमेशा ख्याल रखते हैं.

ऐसे में हमारा भी फर्ज बनता है कि हम भी उनके लिए कुछ करें.
हमारे समाज में अक्सर लोग बेटों से ही यह उम्मीद लगाए रहते हैं कि वक्त आने पर वही हमारा सहारा बनेगा, बेटी का क्या वो तो आज नहीं कल किसी और की हो जाएगी.
मगर लोगों की इस मानसिकता को झुटलाते हुए फेसबुक पर वायरल हो रही एक लड़की की कहानी ने यह साबित किया है कि अपने मां बाप के बेहतर जीवन के लिए कुछ भी करने के लिए लड़कियां भी सामर्थ रखती हैं.
यह भी पढ़ें – Kerala Trauma Policy : केरल में सड़क दुर्घटना पीड़ितों को शुरूआती 48 घंटे मिलेगा मुफ्त इलाज
सोशल प्लेटफार्म फेसबुक पर डॉ रचित भूषण श्रीवास्तव ने पोस्ट लिखकर एक बेटी के संघर्ष की कहानी को बयान किया है कि कैसे उसने अपनी जान को हमेशा के लिए खतरे में डाल कर अपने पिता को दोबारा जीवन दिया है.
दरअसल डॉ भूषण ने यह पोस्ट पूजा बिजारनिया नाम की लड़की के बारे में लिखा है जिसने अपने पिता के खराब हो चुके लिवर के ट्रांसप्लान्ट के लिए अपने लिवर का एक हिस्सा दे दिया.

daughter save father life

इस पोस्ट में डॉ रचित लिखते हैं कि वो पूजा को पर्सनली नहीं जानते मगर वो एक रियल हीरों हैं जिसने अपने पिता की जान बचाई हैं. उन्होंने कहा कि यह उन लोगों को एक जवाब है जो बेटियों को कमतर समझते हैं, हमें तुम पर गर्व है.
आपको बता दें इस पोस्ट को लिखने वाले डॉ रचित भूषण रांची (झारखंड) के सदर हॉस्पिटल में सिविल असिस्टेंट सर्जन हैं.
यह भी पढ़ें – Free Coaching For Dalit : दिल्ली में पिछड़े वर्ग के छात्रों को मिलेगी मुफ्त कोचिंग
तीन बहनों में पूजा ने लिया ट्रांसप्लांट का फैसला
डॉक्टरों के मुताबिक पूजा के पिता का लीवर काफी खराब हो चुका था. यदि सही समय रहते उनका लीवर ट्रांसप्लांट नहीं किया जाता तो उनकी जान भी जा सकती थी.
आपको बता दें कि पूजा के अलावा उनके परिवार में दो और बेटियां हैं. लेकिन पूजा ने ही तय किया कि अपने लीवर का एक हिस्सा देकर वह अपने पिता की जान बचाएंगी .
डॉक्टरों ने बताया कि लीवर ट्रांसप्लांट में पूरा लीवर नहीं, बल्कि लीवर का एक हिस्सा ट्रांसप्लांट किया जाता है. यदि मरीज का शरीर इसे एक्स्पेट कर लेता है तो उसकी उम्र  बढ़ जाती है.
डॉ भूषण के द्वारा लिखे गए इस पोस्ट को अब तक 10 हजार लोग शेयर कर चुके हैं.

For More Hindi Positive News and Positive News India Follow Us On FacebookTwitter, Instagram, and Google Plus