29 साल बाद अपने जख्म भूलकर वापस घाटी लौटा ये कश्मीरी पंडित, हुआ भव्य स्वागत

PC - ANI

Kashmiri Pandit Returns Kashmir : वापस लौटकर अपने पुराने बिजनेस की शुरूआत करी है.

Kashmiri Pandit Returns Kashmir : कश्मीर से सालों पहले विस्थापित हो चुके कश्मीरी पंडितों के अंदर उन पर हुए जुर्म के घाव अब सूखने शुरु हो चुके हैं,इसका उदाहरण पेश किया है एक कश्मीरी पंडित रोशन लाल मावा ने

दरअसल 74 साल के ये बुजुर्ग 29 वर्ष बाद कश्मीर वापस लौटकर अपने पुराने बिजनेस की शुरूआत करी है.
बता दें कि रोशन लाल अक्टूबर 1990 में वहां कश्मीरों पंडितों के खिलाफ भड़की हिंसा के बाद अपना घर छोड़ दिया था और दिल्ली में आकर बस गए थे.

पढ़ें 99 साल के इतिहास में जामिया मिलिया यूनिवर्सिटी को मिली पहली महिला कुलपति

वहां के स्थानिय लोगों के मुताबिक रोशन लाल मावा जब दुकान पर थे तो एक युवक ने उन पर गोलियों से हमला कर दिया था जिसमें में घायल हो गए थे.
फिर इसके बाद वो अपना सब कुछ कश्मीर में जैसे का तैसा छोड़कर दिल्ली शिफ्ट हो गए और यहां ड्राई फ्रूट्स का बिजनेस शुरू कर दिया.


वापस आने पर लोगों ने किया भव्य स्वागत
रोशन लाल जब 29 सालों बाद वापस कश्मीर पहुंचे और फिर से वहां अपना पुराना बिजनेस शुरू किया तो उनका यहां के मुस्लिम व्यापारियों ने शानदार स्वागत किया.
रोशन लाल ने कहा कि यहां के लोगों ने जिस तरह मेरा स्वागत किया ये मेरे जीवन में मिला सर्वोच्च सम्मान है.
इसी दुकान पर मारी गई थी गोली
मीडिया से बातचीत में मावा ने बताया कि इसी दुकान पर एक युवक ने पिस्तौल से चार गोलियां मुझपर दाग दीं थी.
जिसमें से एक मेरे सिर पर लगी और फिर आनन फानन में मेरा परिवार मुझे इलाज के लिए दिल्ली लेकर गया और तब से हम वहीं बस गए.
पढ़ें – संजना बनीं सरकारी नौकरी पाने वाली मध्य प्रदेश की पहली ट्रांसजेंडर
उन्होंने बताया कि यहां मैंने खारी बावली में ड्राइ फ्रूट्स का होलसेल बिजनस स्टार्ट किया और आज दिल्ली में मेरा बिजनेस खूब अच्छे से फल फूल रहा है.
लेकिन अब मैने वापस अपने पुराने घर कश्मीन आने का फैसला किया, मावा कहते हैं कि ‘मैं अपना इतिहास भूल चुका हूं और यहां अपने घर के लिए बेहद प्यार के साथ दुकान दोबारा खोलने आया हूं.