केरल के सरकारी कॉलेज मे एकमात्र ट्रांसजेंडर छात्रा के लिए बनाया गया अलग टॉयलेट

Kerala Government College Make Transgender Friendly Toilet
Riya Isha

Kerala Government College Make Transgender Friendly Toilet : अन्य छात्राएं देखकर मुंह घुमा लिया करती थी

Kerala Government College Make Transgender Friendly Toilet :  देश में पिछले कुछ समय के अंदर सुप्रीम कोर्ट ने कई ऐतिहासिक फैसले लिए हैं, जिसमें से एक एलजीबीटीक्यू यानि की ट्रांसजेंडर समुदाए को लेकर भी लिया गया फैसला शामिल है.

बता दें कि 6 सितंबर 2018 को सुप्रीम कोर्ट की 5 जजों की संविधान पीठ ने बालिगो को समलैगिंक सेक्स से रोकने वाली धारा 377 को अपराध से बाहर करने का ऐतिहासिक और सराहनिय फैसला सुनाया था.
खास बात यह रही कि सर्वोच्च कोर्ट ने अपने फैसले के दौरान एक अहम टिप्पणी में कहा कि इतने सालों तक इस एलजीबीटी समुदाय को समान अधिकार से वंचित करने के लिए पूरे समाज को इनसे माफी मांगनी चाहिए.
सर्वोच्च न्यायालय के इस फैसले के बाद पूरे देश में एलजीबीटीक्यू समुदाए के बीच खुशी की लहर दौड़ पड़ी.
पढ़ें – किसान के बेटे ने गरीबी को पछाड़ पायलट बन भरी उड़ान, मिलेगा पद्म श्री
भारत के कई राज्यों से लोगों द्वारा अपने समलैगिंक रिलेशनशिप को खुले तौर पर अपनाने की खबरे आने लगी, जिसे वो डर के मारे कई सालों से छिपा कर रखे थे.
गौरतलब है कि बीते कई सालों में पहले से ही देखने को ऐसा मिल रहा था समाज में धीरे-धीरे लोग इनके हक को समझने लगे हैं और उन्हें समाज की विचारधारा से वापस जोड़ने के लिए कई तरह की कोशिशें भी की जाने लगी थी.
हाल ही में ऐसा ही एक सराहनीय कदम उठाया गया है केरल के एक कॉलेज में.
दरअसल राज्य के मलप्पुरम इलाके के सरकारी कॉलेज में एकमात्र ट्रांसजेंडर छात्र रिया ईशा के लिए अलग टॉयलेट की व्यवस्था की गई है.
बता दें लगभग 3 हफ्ते पहले रिया ने केरल के उत्री श्रेत्र के सरकारी कॉलेज में इकॉनॉमिक्स कोर्स में एडमिशन लिया है और कुछ दिन बाद ही उनके लिए अलग से ट्रांसजेंडर फैंडली टॉयलेट  की व्यवस्था कर दी गई है.
अंग्रेजी मीडिया वेबसाइट से बातचीत में रिया बताती हैं कि उन्होंने कॉलेज से इस टॉयलेट की डिमांट इस वजह से करी थी क्योंकी कुछ रूढ़ीवादी लड़कियां उन्हें वहां देखकर मुंह मोड़ लेती थी.
पढ़ें – शासन ने नहीं करी मदद तो घर बेचकर मजदूर की पत्नी ने बनवा दी सड़क

रिया का कहना कि ऐसी हरकत से वो खुद को वहां असहज महसूस करने लगी थी, 27 साल की रिया कोजहीकोडे से मल्लमपुरम शिफ्ट हुई है और वो चाहती हैं कि यहां भी लोग उन जैसे लोगों को वैसे ही अपनाएं जैसे कोजहीकोडे में अपनाया गया था.

जानकारी के मुताहिक रिया फैशन डिजायनिंग में ग्रैजुएशन करने के बाद अब पोस्ट ग्रैजुएशन करने के लिए इस कॉलेज में दाखिला लिया है