संजना बनीं सरकारी नौकरी पाने वाली मध्य प्रदेश की पहली ट्रांसजेंडर

MP Transgender Government Job
PC - ANI

MP Transgender Government Job : इस ट्रांसजेंडर को कृष्ण गोपाल तिवारी द्वारा नियुक्त किया गया.

MP Transgender Government Job : ट्रांसजेंडरों को समाज की मुख्य धारा से जोड़ने के लिए आए दिन हमारे देश में कुछ ना कुछ अच्छा होता दिख रहा है.

बीते कुछ समय से देखा गया है की इन्हें भी बाकी लोगों की ही तरह वो मौका दिया जा रहा है जिससे ये भी खुद को साबित कर सके.
हाल ही में मध्य प्रदेश में संजना सिंह नाम की एक ट्रांसजेंडर को सरकारी नौकरी मिली है.
बता दें की संजना को मध्य प्रदेश सामाजिक न्याय और विकलांग कल्याण विभाग के निदेशक के निजी सचिव के रूप में नियुक्त किया गया है, और ये राज्य में किसी ट्रांसजेंडर की पहली नियुक्ति है.
पढ़ेंसलाम ! इस भिखारन ने भीख में मिले 6 लाख शहीद CRPF जवानों को दिया दान
इस 36 वर्षीय ट्रांसजेंडर को कृष्ण गोपाल तिवारी द्वारा नियुक्त किया गया है.
न्यूज एजेंसी ANI से बातचीत में संजना ने कहा की तिवारी जी ने एक अच्छा कदम उठाया है जिससे आने वाले दिनों में हमारे समुदाय के लोगों को बेहतर अवसर मिलेंगे.
यहां आपकी जानकारी के लिए बता दें की कृष्ण गोपाल तिवारी खुद देश के प्रथम दृष्टिबाधित IAS अधिकारी हैं.
संजना ने अपने इंटरव्यूह में बताया की गर हमारे समुदाय को पर्याप्त अवसर दिए जाएं, तो हम समाज के लिए बहुत कुछ कर सकते हैं.
इसके लिए उन्होंने सरकारी नौकरियों में अपने समुदाए के लिए आरक्षण की मांग करते हुए कहा की अगर ये दूसरों को प्रदान किया जा सकता है तो हमें क्यों नहीं.
गौरतलब है की पिछले साल दिसंबर 2018 में दिल्ली हाईकोर्ट ने एक बड़ा फैसला सुनाते हुए इन्हें कानूनी तौर पर मजबूती दी थी.
हाईकोर्ट ने इन ट्रांसजेंडरों को सैक्सुअल हैरेसमेंट, की एफआईआर दर्ज करने का हक दिया था.
पढ़ेंपरिवार के खिलाफ जाकर युवक ने करी ट्रांसजेंडर से शादी, धर्म भी अलग
न्यायमूर्ति सिद्धार्थ मृदुल और न्यायमूर्ति संगीता ढींगरा की खंडपीठ ने दिल्ली पुलिस को कहा कि ट्रांसजेंडर जब छेड़छाड़ संबंधी IPC की धारा 354ए के तहत अपनी शिकायत देगा तो पुलिस उसकी एफआईआर दर्ज करेगी.
यही नहीं दिसंबर में ही संसद ने भी ट्रांसजेंडर व्यक्ति को परिभाषित करने, उनके खिलाफ भेदभाव पर पाबंदी लगाने और उन्हें लिंग पहचान का अधिकार देने देने से जुड़ा एक अहम बिल पारित किया था.
नौकरी से लेकर शिक्षा के क्षेत्र में ऐसे तमाम उदाहरण हैं जो ये दिखाता है की अब समाज भी इन ट्रांसजेंडरों के प्रति अपना नजरिया और सोच दोनों बदलने के लिए अग्रसर है