Mumbai Deaf Mute Girl: कमी को पीछे छोड़ अमी ने हुनर से कमाया नाम

mumbai deaf mute girl

 Mumbai Deaf Mute Girl: बेजुबान होते हुए भी खुद की बनाई पहचान

 Mumbai Deaf Mute Girl: किसी ने सच ही कहा है कि सपनों को पाने की उड़ान मजबूत हौसलों से होती है पंखो से नहीं.

इसी तरह मजबूत हौसलों के साथ मुंबई की अमी ने भी एक सपना देखा था.
बाकि लड़कियों से अलग अमी बचपन से ही सुन बोल नहीं सकती. लेकिन बावजूद इसके आज वह अपने पैरों पर खड़ी होकर कारोबार जगत में काफी नाम कमा रही हैं.
अमी कढ़ाई-बुनाई का बिज़नेस करती हैं, जो आज सिर्फ देश में ही नहीं बल्कि विदेशों में भी सफल है.
mumbai deaf mute girl
अपने हुनर और व्यवहार से जीते हैं दिल
 Mumbai Deaf Mute Girl: अमी की मां लता खारा बताती हैं कि जब वो अपनी प्रेग्नेंसी के तीसरे महीने में थी तो उन्हें खसरे की बिमारी की समस्या हो गई.
उन्होंने बताया कि उस समय ओडिशा में जहां वो रहती थी वहां इलाज की पर्याप्त सुविधाएं ना हो पाने के कारण जब उनकी बेटी अमी ने जन्म लिया तो वह सुन और बोल नहीं पा रही थी.
श्रीमती लता खरे जी बताती हैं कि शुरुआत में हमने अमी का दाखिला दिव्यांग स्कूल में करवाया. लेकिन उसकी प्रतिभा और कौशल को देखते हुए जल्दी ही उनकी बेटी सामान्य स्कूल में जाने लगीं.
अमी के स्कूल के दिनों को याद करते हुए उनकी मां लता बताती है कि अमी बचपन से ही सबका ख्याल रखने वाली लड़की थी. खुद शारीरिक कमजोरियों से जूझने के बावजूद वह हमेशा अपने साथी बच्चों के साथ मिल-जुल कर रहती थी.
इसी वजह से उनके स्कूल के टीचर उन्हें ‘क्लास की जान‘ कहा करते थे.
टेक्सटाइल का कोर्स कर सीखा गुर
Mumbai Deaf Mute Girlअमी ने दो साल का टेक्सटाइल का कोर्स किया, साथ ही उन्होंने ब्यूटीशियन का कोर्स भी किया हुआ है.
शुरूआत में कोर्स खत्म होने के बाद धीरे-धीरे अमी ने अपने घर में ही कढ़ाई-बुनाई का काम शुरू कर दिया. उनके इस काम में पूरे परिवार ने उनका साथ दिया.
अमी के कढ़ाई- बुनाई करने के बारे में जब आस-पास के लोगों को पता चला तो उन्होंने ही अमी को सबसे पहले ऑर्डर देना शुरू किया.
इसके बाद धीरे-धीरे अमी के काम को लोग पसंद करने लगे और फिर मुंबई समेत दूसरे राज्यों से भी लोगों ने उनकी कढ़ाई किए कपड़ों का ऑर्डर देकर मंगवाना शुरू कर दिया.
विदेशों तक पहचान बना चुका है अमी का हुनर
Mumbai Deaf Mute Girlअमी की बहन रिद्दी अमरीका में रहती हैं. जब वे अमी के बनाए कुछ सामान को अपने साथ कैलिफोर्नियां लेकर गईं तो वहां भी लोगों को अमी के द्वारा कढ़ाई किए गए कपड़े बहुत पसंद आए.
जिसके बाद उन्हें कैलिफोर्निया,इरवाइन और सैन डिएगो के साथ पूरे अमेरिका से भी कई ऑर्डर मिलने लगे.
अमी कपड़ों पर कढ़ाई के अलावा खूबसूरत क्लिप और हेयर बैंड भी डिजाइन करती हैं. उनके ग्राहकों में हेयरबैंड की डिमांड बहुत ज़्यादा है. अमेरिका से उन्हें सबसे ज़्यादा इन हेयरबैंड के ही ऑर्डर मिलते हैं.
अमी को मिलने वाले ऑर्डर पर उनकी मां बताती हैं कि उन्हें रोजाना कई ऑर्डर की डिमांड आती है. लेकिन अभी अमी यह काम अकेले ही देख रही हैं, इसलिए महीने में कपड़ों पर कढ़ाई करने के 8-10 ऑर्डर ही ले पाती है.
हर ऑर्डर की कीमत सामान पर निर्भर करती है, वह 2000-5000 रुपये प्रति ऑर्डर तक चार्ज करती हैं.

साभार- बीबीसी