मुस्लिम परिवार ने गोद लिए लड़के की हिंदू रीति रिवाज से शादी करा पेश की इंसानियत की नजीर

Muslim Married Hindu Orphan Kid
फोटो साभार - ट्वीटर

Muslim Married Hindu Orphan Kid : 12 साल की उम्र में लिया था गोद

Muslim Married Hindu Orphan Kid : देश में हिंदू मुस्लिम की बात कर आपस में लोगों को भड़काने वालों के लिए देहरादून के एक मुस्लिम परिवार ने इंसानियत से भरी नजीर पेश की है.

मौजूदा समय में जहां देश आपसी धर्म और जाति की आग में जल रहा है वहां इस शहर के एक मुस्लिम परिवार ने ऐसी मिसाल कायम की है जिसे समाज हमेशा एक उदाहरण के तौर पर याद करेगा.
दरअसल उत्तराखंड की राजधानी देहरादून के रहने वाले मोनुद्दीन ने आज से कुछ साल पहले एक 12 वर्षीय हिंदू युवक को गोद लिया था जिसका नाम राकेश रस्तोगी था.
लेकिन एक हिंदू बेटे को गोद लेने के बाद भी मोनुद्दीन और उनकी पत्नी ने राकेश को हमेशा लाड़-प्यार दिया. यहां तक कि उन्होंने कभी राकेश को मुस्लिम धर्म के रीति रिवाज मानने के लिए बाध्य नहीं किया बल्कि उन्होंने खुद उसे हिंदू धर्म के अनुसार पूजा पाठ करने की पूरी छूट दे रखी थी.
यही नहीं उन्होंने हाल ही में अपने इस गोद लिए बेटे की शादी भी पूरे हिंदू रीति रिवाजों के साथ ही करी, इतना ही नहीं मोनद्दीन की पत्नी कौसर ने भी अपनी नई नवेली दुल्हन का स्वागत पूरी तरह हिंदू परंपराओं के अनुसार ही किया.
यह भी पढ़ें – गुजरात के एक मुस्लिम ने उठाया 500 वर्ष पुराने हनुमान मंदिर के जीर्णोद्धार का सारा खर्च
राकेश ने मीडिया कर्मियों से बताया कि वो होली, दिवाली और सभी हिंदू त्योहार इसी घर में मनाते हूं और घर के सभी सदस्य भी उनके साथ त्यौहार में शामिल रहते हैं.
राकेश ने बताया कि उन्हें कभी भी इस बात का महसूस नहीं हुआ कि वह एक मुस्लिम परिवार में हैं. यहां तक की कभी किसी ने उनकी पूजा पद्धति पर भी सवाल नहीं उठाए ना ही उनके साथ किसी ने कभी सौतेला व्यवहार किया है.
गौरतलब है कि आज देश में हिंदू मुस्लिम के खिलाफ जहर फैलाने वाले हर कोने में मिल जाएंगे, लेकिन यह भी सच है कि इसी नफरत भरी सोच रखने वालों के बीच कुछ ऐसे इंसान भी बसते हैं जिनके लिए धर्म से उपर मानवता रहती है.
यह भी पढ़ें – जानिए, केरल की उस जमीदा को जिसने इस्लाम की पुरानी परंपराओं से करी खिलाफत
ऐसे लोगों को इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता कि उनके किए जा रहे कामों के बारे में लोगों की क्या धारणा बनेगी.
शायद मोनुद्दीन की गिनती भी उन्ही इंसानों में होती है जिन्होंने 12 साल के हिंदू लड़के को गोद लेकर उसे मां बाप की तरह प्यार दिया.