लखनऊ की प्रोफेसर ने विलुप्त होते गिद्धों को बचाने के लिए खोला रेस्टोरेंट

Restaurant Opened Save Vultures

 Restaurant Opened Save Vultures : एक मैदान में खोले गए इस रेस्टोरेंट मे गिद्धों को खाना डाला जाता है

Restaurant Opened Save Vultures : हर तरफ इंसानों की बढ़ती आबादी और इसकी वजह से वन क्षेत्रों का घटता दायरा दिन प्रतिदन पर्यावरण के लिए बड़ी चुनौती बनता जा रहा है.

इससे अगर सबसे ज्यादा नुकसान किसी को हो रहा है तो वो है हमारे वन्यजीव जो बीते कुछ सालों में बेहतर भोजन और आशियाने की समस्याओं का सामना कर रहे हैं.
यही नहीं इनमें से कई प्रजातियां तो ऐसी हैं जो अब या तो विलुप्त हो गई हैं या होने के कगार पर हैं.
हालांकी हमारे बीचे में ही ऐसे कई सामाजिक लोग भी हैं जो इनकी सुरक्षा के लिए आवाज उठाते हैं और निरंतर कुछ ना कुछ प्रयास करते रहते हैं.
पढ़ें – पाक के हिंदू मंदिर में चल रहा स्कूल, पढ़ रहे बच्चे और पढ़ा रहीं मुस्लिम टीचर
उत्तर प्रदेश के लखनऊ विश्विद्यालय में पढ़ाने वाली प्रोफेसर अमिता कन्नौजिया ने भी कुछ ऐसा ही कदम उठाया है.
दरअसल अमिता ने गिद्धों की विलुपित होती प्रजाति को बचाने के लिए एक रेस्टोरेंट खोला है. अमिता ने यूपी के ही जिले ललितपुर में ये गिद्ध रेस्टोरेंट खोलने की पहल की है जहां वो इन गिद्धों को खाना डालती है.
वैसे तो ये रेस्टोरेंट एक खुले मैदान में खुला है लेकिन इसे अन्य जानवारों के प्रवेश से बचाने के लिए चारों और से कवर भी किया गया है.
एनबीटी को दिए इंटरव्यूह में विश्वविद्यालय के जूऑलजी विभाग की प्रोफ्रेसर अमिता बताती हैं पहले लखनऊ के पास के इलाके मोहनलालगंज, बाराबंकी और कैंट में आसानी से गिद्ध पाए जाते थे लेकिन अब ये यहां से विलुप्त हो गए हैं.
उन्होंने बताया कि साल 2011 के आकड़ों के मुताबिक यूपी में उस समय 2080 गिद्ध थे लेकिन इन 7 सालों में इनकी संख्या में तेजी से गिरावट देखी गई है.
वहीं एक अन्य शोध के बार में बात करते हुए अमिता ने कहा कि लखनऊ कानपुर के बीच उन्नाव जिले में कुछ साल पहले तक 250 इजिप्शियन गिद्ध देखे जाते थे, लेकिन आज ये 50 के आसपास ही रह गए हैं.
पढ़ें – 9 सालों से वेतन ना लेने वाले वरूण गांधी यूं बने गरीबों के ‘रॉबिनहुड पांडे
क्यों जरूरी है गिद्ध
गिद्ध की हमारे बीच जरूरत को लेकर प्रफेसर अमिता कन्नौजिया ने बताया कि गिद्ध एक ऐसा पक्षी है जो हमारे पर्यावरण में बतौर सफाई कर्मचारी की तरह काम करता है.
ये मरे हुए जानवरों की हड्डियों का चूरा करके खाते हैं अगर ये हड्डियां यूं ही पर्यावरण में खुले में पड़ी रहे तो हमारे आस पास कई बीमारियां फैल सकती है.इस लिहाज से ये हमें कई तरह की बिमारियों से बचाने का काम करता है.
सरकार से करी अपील
अमिता ने सरकार से अपील करी है कि वो भी पर्यावऱण को स्वच्छ बनाने हेतु हर इलाके में एक गिद्ध रेस्टोरेंट जरूर खोले. जिससे शहर भी साफ रहेगा और विलुप्त होते इन गिद्धों का संरक्षण भी हो जाएगा.