मिसाल ! मां बेटी की सेफ्टी के लिए उनके साथ आधी रात घंटो खड़ा रहा ऊबर ड्राइवर

Uber Driver Santosh Women Safety

Uber Driver Santosh Women Safety : सोसाइटी गेट बंद होने के कारण महिलाओं को नहीं मिला था प्रवेश

Uber Driver Santosh Women Safety : देश के अंदर इस समय जब कैब ड्राइवर्स द्वारा महिला पैसजरों से बदसलूकी के तमाम आरोप लग रहे हैं तब ऊबर कंपनी के एक कैब ड्राइवर ने ऐसा काम किया जो कि एक मिसाल बन गई है.

महिलाओं द्वारा रास्ते में छेड़छाड़ की तमाम शिकायतों के बीच ऊबर के इस ड्राइवर ने अपने विचारों और नेक काम के जरिए कंपनी का सिर गर्व से उपर कर दिया है.
ना सिर्फ कंपनी का बल्कि इसने उन तमाम ड्राइवरों को भी एक सीख दी है जो महिलाओं के साथ कैब में गलत व्यवहार करने की कोशिश करते हैं.
दरअसल संतोष नाम का ये ऊबर ड्राइवर आधी रात को मां बेटी को उनके घर तक छोड़ने गया था.लेकिन वहां जाकर उसने देखा कि उन महिलाओं का जिस सोसाइटी में जाना था वहां का गेट बंद हो चुका था.
पढ़ें – सलाम ! गांव के बच्चों को स्कूल भेजने के लिए खर्च कर दी अपनी पूरी कमाई
काफी रात हो जाने के कारण उसे उन महिलाओं की सुरक्षा की फिक्र हुई और उसे उन दोनों को अकेला छोड़ना मुनासिब नहीं लगा.
इसके बाद वो करीब 1.30 घंटे तक वहीं उनके साथ रूका रहा और सोसाइटी का गेट खुलने के बाद ही वहां से गया.

http://

बेटी प्रियष्मिता ने ट्वीट कर करी तारीफ
इस वाक्ये को लेकर बेटी प्रियष्मिता ने ट्वीट कर संतोष की काफी तारीफ की है, जो की अब सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रही है.
प्रियष्मिता गुहा ने ट्विटर पर इस घटना का जिक्र करते हुए लिखा कि मैंने 13 अक्टूबर की रात उबर से कैब बुक कराई थी. कैब ड्राइवर संतोष मुझे और मेरी मां को हमारे घर तक ड्रॉप करने गया.
पढ़ें – वोडाफोन की अनूठी पहल, बिना इंटरनेट और बैलेंस महिलाओं की करेगी सुरक्षा
जब हम रात के 1 बजे वहां पहुंचे तो हमारी सोसाइटी का गेट बंद था.
लेकिन उसने (संतोष) हमारी सुरक्षा की खातिर हमारे साथ डेढ़ घंटे तक खड़ा रहा और इंतजार करता रहा. मैं उसे सलाम करती हूं. मैं और मेरी मां संतोष के लिए दिल से शुक्रगुजार हैं.

http://

कंपनी ने किया सम्मानित
वहीं इसके बारे में जानकारी मिलने के बाद ऊबर ने भी ड्राइवर संतोष पर गर्व जताते हुए एक ट्वीट किया है. जिसमें वो संतोष को ऑफिस बुलाकर धन्यवाद और सम्मानित करते हुए दिख रहे हैं.