परिवार को गरीबी से बाहर निकालने के लिए यूपी की ये दो बहनें चला रहीं जेंट्स सैलून

UP Girls Running Barber Shop

UP Girls Running Barber Shop : पिता को लकवा मारने के बाद बेटियों ने संभाला ये काम

UP Girls Running Barber Shop : आज के समय में ऐसा कोई काम नहीं है जो लड़कियां नहीं कर सकती है, इसका समय समय पर उदाहरण हम सबको मिलता भी रहता है.

चाहे कोई भी परिस्थिति हो हमारी बेटियां हर क्षेत्र में बढ़ चढ़कर हिस्सा ले रही है इस समाज को सशक्त बनाने में अपना भरपूर योगदान दे रही हैं.
कुछ ऐसी ही कहानी देखने को मिली उत्तर प्रदेश के कुशीनगर जिले में, जहां दो सगी बहनें मिलकर जेंट्स सैलून चला रही है. इससे बड़ा और क्या ही उदाहरण चाहिए हमें कि लड़कियां कुछ भी कर सकती है.
ज्योति औऱ नेहा की हिम्मत का सबूत बन चुका यह सैलून अब सिर्फ गोरखपुर में ही नहीं बल्की पूरे अब तो पूरे देश में मशहूर हो गया है.
पढ़ें – अरुणिमा ने अंटार्कटिका के माउंट विन्सन फतह कर रचा नया कीर्तिमान,बनी दुनिया की पहली दिव्यांग महिला
हालांकी पहले ये दोनों बहने ब्यूटीपार्लर खोलना चाहती थी मगर बाद में उन्होंने अपने इस फैसले को बदलकर जेंट्स सलून खोलने का फैसला किया.
उन्होंने कहा कि हमने सोचा न था यह काम हमें देश भर में सम्मान दिला देगा लोगों से मिले प्यार और प्रशंसा को देखते हुए हम अब यही काम जारी रखेंगी.
बता दें की हेयरकटिंग की दुकान चलाने वाले पिता को लकवा मार जाने के बाद बीते पांच साल से परिवार की रोटी का इंतजाम करने में जुटीं इन दोनों बहनों के संघर्ष और जीवन की कहानी गुरुवार को दैनिक जागरण ने प्रकाशित की थी.
इस खबर में बताया गया था की कैसे ये दोनों बहनों ने लड़कों के वेश -भूषा में जेंट्स सलून की जिम्मेदारी संभाली और पुरुषों की दाढ़ी व बाल काटने का काम कर अपने परिवार का खर्च चला रही हैं.
जब ये बात आस पास के इलाकों में फैली तो कुशीनगर के विधायक रजनीकांत मणि त्रिपाठी व ज्वाइंट मजिस्ट्रेट अभिषेक पांडेय बनवारी टोला गांव स्थित उनके घर पहुंचे और दोनों बहनों को सम्मानित किया.
पढ़ें – कौन है हनाया निसार जिसके बारे में पीएम ने ‘मन की बात’ में बांधे तारीफों के पुल
ज्वाइंट मजिस्ट्रेट अभिषेक पांडेय की तरफ से कहा गया कि बेटियों का प्रयास नारी सशक्तीकरण का नायाब उदाहरण है.
उन्होंने कहा की ठेठ गंवई परिवेश में रहने वाली इन बेटियों ने समाज की परवाह किए बिना पिता- परिवार पर आई मुश्किलों को अपने कंधे पर ओढ़ लिया इस वजह से दोनों सम्मान की हकदार हैं.
वहीं उन्होंने ये भी बताया की जल्द ही इन्हें आर्थिक तौर पर कुढ मदद या सम्मान की राशी के तौर पर दए जाने की सिफारिश शीघ्र ही शासन को पत्र भेजकर की जाएगी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here