देहरादून के ऑटो ड्राइवर की बेटी ने पीसीएस-जे की परीक्षा में किया टॉप, अब लड़कियों की बनी रोल मॉडल

Uttarakhand PCS J Topper 2018

Uttarakhand PCS J Topper 2018 : कड़ी मेहनत से हासिल किया मुकाम

Uttarakhand PCS J Topper 2018 : अगर इरादे किसी के बुलंद हो तो चाहे मुश्किलें जितनी भी हों मगर वह मुकाम तक पहुंच ही जाता हैं. ऐसी ही एक मिसाल बनी है उत्तराखंड की पूनम टोडी.

जी हां, उत्तराखंड की राजधानी देहरादून से एक ऐसी लड़की की सफलता की ख़बर आई है जो लंबे समय तक देश के हर घर में एक प्रेरणादायक कहानी की तरह सुनाई जाएगी.
देहरादून के नेहरू कॉलोनी निवासी पूनम ने पीसीएस-जे की परीक्षा में शीर्ष स्थान हासिल कर ना सिर्फ शहर का बल्कि पूरे राज्य का नाम रोशन किया है.
उनकी सफलता के पीछे की खास बात यह है कि वो एक ऑटो ड्राइवर की बेटी हैं और उन्होंने अपनी पूरी पढ़ाई पैसों के अभाव में की है.
बता दें कि इससे पहले पूनम यूपी में सहायक अभियोजन अधिकारी की परीक्षा भी पास कर चुकी हैं. इसके बाद अब वो उत्तराखंड लोक सेवा आयोग द्वारा जारी न्यायिक सेवा सिविल जज जूनियर डिविजन 2016 परीक्षा के अंतिम परिणाम में भी सफल घोषित हुई हैं.
यह भी पढ़ें देश की पुलिस फोर्स में पिछड़ रही हैं महिलाएं, ग्रह मंत्रालय की रिपोर्ट में महज 7.28% हैं आंकड़े
बेटी के इस सराहनीय कारनामे के बारे में पूनम के पिता अशोक ने कहा कि एक पिता के तौर पर वो अपनी भावनाएं शब्दों में बयां नहीं कर पा रहा. यही नहीं उन्होंने सभी बेटियों से भी ये अपील करी की वो भी अपने माता-पिता को पूनम की तरह ही गर्व महसूस कराएं.
वहीं इस बारे में पूनम का कहना है कि उन्होंने अपनी मेहनत के दम पर इस सफलता को हासिल किया है, और अब उनका मकसद है कि वो सभी को न्याय दिलाए. उन्होंने कहा कि वे अपने काम को पूरी ईमानदारी और निष्ठा के साथ करेंगी.
परिवार का मिला साथ
अपनी इस सफलता पर बात करते हुए पूनम तोदी का कहना है कि उन्होंने इसे पाने के लिए कड़ी मेहनत की है और इसमें उनके परिवार ने हर कदम पर साथ दिया है.
उन्होंने बताया कि उनके पिता एक ऑटो ड्राइवर हैं, लेकिन उन्होंने कभी भी मेरे सामने किसी तरह की आर्थिक तंगी नहीं आने दी.
यह भी पढ़ें – जानिए, केरल की उस जमीदा को जिसने इस्लाम की पुरानी परंपराओं से करी खिलाफत
गौरतलब है कि उत्तराखंड लोक सेवा आयोग की तरफ से राज्य न्यायिक सेवा सिविल जज जूनियर डिवीजन 2016 के आठ पदों की भर्ती प्रक्रिया 15 मार्च 2017 को शुरू की गई थी.
इसमें 27 अगस्त 2017 को प्रारंभिक परीक्षा कराई गई थी और फिर बाद में 30 नवंबर को मुख्य परीक्षा हुई थी, जिसमें 83 आवेदक सफल हुए थे.
इंटरव्यू के बाद 8 आवेदकों का चयन अंतिम रूप से किया गया है. जिसमें उत्तराखंड के सात और उत्तर प्रदेश के एक अभ्यर्थी शामिल है.