एक मुस्लिम कलाकार ने बनाई दुनिया की सबसे ऊंची ‘मां दुर्गा’ की मूर्ति

World's Tallest Durga Idol
google pic

World’s Tallest Durga Idol : लिम्का बुक ऑफ रिकार्ड्स में दर्ज हुआ नाम

World’s Tallest Durga Idol : कहते हैं कोई भी धर्म कभी देवी देवताओं को लेकर आपस में बैर करना नहीं सिखाता.

अगर मन में सच्ची आस्था हो तो आप दूसरे धर्म के भगवान का भी उतना ही आदर करेंगे जितना की अपने.
हमारे भारत मे तो आपको सैकड़ों उदाहरण ऐसे मिल जाएंगे जो ऐसी ही सोच रखते हैं,तभी तो हमारे देश के लिए कहा गया है “विविधता में एकता”.
एक ऐसा ही ताजा मामला सामने आया है असम से जहां एक मुस्लिम कलाकार ने दुनिया की सबसे ऊंची मां दुर्गा की मूर्ति बनाई है.

मुस्लिम कलाकार नूरुद्दीन अहमद द्वारा बनाई गए इस मूर्ति को लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड्स में दर्ज कर लिया गया है.

पढ़ें शिवलिंग पर चढ़ाए गए दूध को बर्बादी से कुछ यूं रोक रहा बेंगलुरु का गंगाधारेश्वर मंदिर

बता दें की नूरुद्दीन गुवाहटी के काहिलीपाड़ा इलाके के रहने वाले हैं और इस मूर्ति को उन्होंने सितंबर 2018 में इसका निर्माण किया था.
इस मूर्ति की लंबाई 98 फीट है और जब ये बनकर तैयार हुई थी तो उसे समय लाखों लोग उसे देखने के लिए अहमद के गांव पहुंच रहे थे.
World's Tallest Durga Idol :
PC – Indian Expess ( नूरुद्दीन अहमद )
धर्म बना रोड़ा?
अहमद बताते हैं की उनके काम की तारीफ सभी करते हैं,यही वजह है की अब किसी ने भी मुझे इसके लिए परेशान नहीं किया.
उन्होंने कहा की अक्सर लोग मूझसे पूछते हैं की क्या मेरा धर्म मेरे काम में रोड़ा नहीं बनता? इसके जवाब में मै यही कहता हूं की कलाकारों का कोई धर्म नहीं होता.
7 दिन में बनकर हुई तैयार
गौरतलब है की सितंबर 2017 में अहमद ने इस प्रतिमा को महज 7 दिन में ही बनाकर तैयार कर दिया था.
इसमें हिंदू मुस्लिम दोनों ही समुदाए के 40 लोगों ने अपना हाथ बंटाया था.
हालांकी मूर्ति बनने के बाद एक हल्की से प्राकृतिक घटना भी घटी दरअसल वहां एक तूफान आने की वजह से दुर्गा पूजा के हफ्ते भर पहले ये मूर्ति गिरकर तबाह हो गई.
लेकिन इसके बावजूद अहमद ने हिम्मत नहीं हारी और फिर से इसे शुरूआत से बनाकर आज ये कामयाबी हासिल करी.

पढ़ें – जानें कौन है सबरीमाला मंदिर में प्रवेश करने वाली दो महिलाएं,कैसे किया दर्शन

लिम्का बुक में दर्ज नाम
बता दें की अहमद का नाम मां दुर्गा की सबसे ऊंची मूर्ति बनाने के लिए लिम्का बुक ऑफ रिकार्ड्स में दर्ज हो गया है.
लिम्का अधिकारियों की की ओर से इस संदर्भ में पिछले महीने ही चिट्ठी मिल गई थी.लेकिन उन्होंने इस खबर को बुधवार को फेसबुक पर सार्वजनिक करी.