Bikers Safety : पूर्णिमा की रात में सड़कों पर सावधानी से चलाएं बाइक, रिसर्च में पता चली ये बात

bikers safety
demo pic (i4u)

Bikers Safety : इस रात में बाइकर्स को रहता है हादसे का खतरा

Bikers Safety : दुनिया भर में बाइक से होने वाले सड़क हादसों को लेकर एक चौंकाने वाली रिपोर्ट सामने आई हैं.

विदेशी शोधकर्ताओं द्वारा तैयार की गई इस रिपोर्ट में यह दावा किया गया है कि पूरे चांद वाली रात में बाइक चलाने वालों के एक्सिडेंट होने का खतरा सबसे ज्यादा रहता है.
इसके पीछे शोधकर्ताओं का मानना है कि पूरे चंद्रमा वाली रात जिसे हम पूर्णिमा की रात भी कहते हैं उस दिन चांद का आकार बढ़ जाता है और इसकी रोशनी भी और दिनों के मुकाबले तेज रहती है जो बाइक चलाने वालों का ध्यान भटकाती है, जिससे उनके हादसों के शिकार होने की संभावना बढ़ जाती है.
यह भी पढ़ें – RamSetu : वैज्ञानिकों ने भी माना रामसेतु प्राकृतिक नहीं,बल्कि मानव निर्मित पुल है
रिपोर्ट में हुआ इस तरह खुलासा
कनाडा की यूनिवर्सिटी ऑफ टॉरंटो और अमेरिका की प्रिंसटन यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने यूएस में बाइक से होने वाले सड़क हादसों के उपर इस रिपोर्ट को तैयार किया है.
इस अध्ययन के लिए सबसे पहले उन्होंने पूर्णिमा की रात में होने वाले सड़क हादसों का डाटा तैयार किया. इसके बाद इसकी तुलना पूर्ण चांद से ठीक एक हफ्ते पहले और बाद वाले हफ्ते में होने वाले सड़क हादसों से की.
जिसके बाद यह पता चला कि 1, 482 रातों में कुल 1,329 लोग बाइक हादसों का शिकार हुए. इनमें से 494 रातें पूर्ण चंद्रमा वाली थीं, जबकि 988 रातें सामान्य थीं.
यानि की कुल मिलाकर साल 1975 से 2014 के बीच पूरे चांद की 494 रातों में 4,494 सड़क दुर्घटनाएं हुईं जबकि सामान्य 988 रातों में 8,535 हादसे हुए.
यह भी पढ़ें – Earth Fireball : 600 सालों में खत्म हो जाएगा इंसानों का असतित्व – स्टीफन हॉकिंग
सड़क पर बाइकर्स को रहता ज्यादा खतरा
अध्ययन से जुड़े टोरंटो विश्वविद्यालय के सह-लेखक डॉ डोनाल्ड रेडेलमीयर का मानना है कि सड़क पर बाइक चलानों वाले के लिए एक्सिडेंट का खतरा सबसे ज्यादा रहता है जबकि दोनों एक ही दूरी तय करते हैं .
उन्होंने कहा कि बाइक चलाने वाले के पास सिर्फ एक हेलमेट के अलावा खुद को प्रोटेक्ट करने के लिए कुछ भी नहीं रहता.
इस वजह से डॉ डोनाल्ड का मानना है कि बाइकर्स के सड़क हादसे का खतरा एक नशे में बिना किसी सीट बेल्ट के कार चलाने वालों से भी ज्यादा रहता है.
आपको बता दें कि पूरी दुनिया में हर दिन लाखों की संख्या में लोग सड़क हादसों में अपनी जान गंवाते हैं, जिनमें सबसे संख्या मध्यम उम्र के लोगों की रहती हैं.