Air Strike On Syria : जानिए कैसे सीरिया बनता जा रहा तीसरे विश्व युद्ध का केंद्र

Air Strike On Syria

Air Strike On Syria : युद्ध की आग में क्यों जल रहा है सीरिया

Air Strike On Syria : दो विश्व युद्ध के बाद लगता है अब तीसरे विश्व युद्ध का समय आ गया है, और इसकी तैयारी भी शुरू होती दिख रही है.

भारतीय समयानुसार शुक्रवार को देर रात से यह कहना और आसान हो गया है कि जल्द ही दुनिया में तीसरा विश्वयुद्ध होने वाला है.
दरअसल, शुक्रवार की देर रात को सीरिया पर अमेरिका ने हवाई हमला कर दिया है और इस काम में फ्रांस और ब्रिटेन ने भी अमेरिका का साथ दिया है. मीडिया रिपोर्टस के अनुसार यह हमला सीरिया की राजधानी दमिश्क और उसके आस-पास के शहरों पर किया गया है.
यह भी पढ़ें – कावेरी जल विवाद को सुलझाने में केंद्र की देरी आखिर किस ओर कर रही हैं ईशारा, समझे यहां
युद्ध की आग में क्यों जल रहा है सीरिया
दरअसल, सीरिया में पहले से ही गृहयुद्ध का माहौल बना हुआ है इस बीच यूएस, फ्रांस और यूके ने हवाई हमले कर दिया है.
बता दें कि सीरियाई नागरिकों के बीच भारी बेरोज़गारी, व्यापक भ्रष्टाचार, राजनीतिक स्वतंत्रता का अभाव और राष्ट्रपति बशर अल-असद के दमन के ख़िलाफ़ निराशा है जिसके खिलाफ वहां के लोग 2011 से बगावत कर रहे हैं.
धीरे धीरे वक़्त के साथ आंदोलन लगातार तेज होता गया और अब तो वहां विरोधियों ने भी हथियार उठा लिए. बता दें कि इन विरोधियों ने हथियारों से पहले अपनी रक्षा की और बाद में अपने इलाक़ों से सरकारी सुरक्षाबलों को निकालना शुरू कर दिया.
अभी हाल ही में सीरिया के विद्रोहियों वाले इदलिब शहर में संदिग्ध रासायनिक हमला किया गया जिसमें 58 लोगों की मौत हो गई. इसे सीरिया सरकार की ही चाल बताया गया लेकिन सरकार ने इसे अफवाह मात्र बताया है.
रूस, सीरिया का देता रहा है साथ
रूस और सीरिया का रिश्ता हमेशा से काफी अच्छा रहा है, सीरियाई सरकार की मदद में रूस हमेशा से ही उसके साथ खड़ा रहा है. यही वजह है कि सीरिया में लोकतंत्र की मांग कर रहे नागरिकों को दबाने के लिए रूस हमेशा से सीरिया की मदद करता रहा है.
मगर अब अमेरिका के हवाई हमला करने से रूस काफी सख्ते में आ गया है और उसका कहना है कि विश्व को इसका खामियाजा भुगतना पड़ेगा.
सीरिया में शांति बहाल करना चाहता है अमेरिका
सीरिया में रासायनिक हमले के बाद अमेरिका काफी बौखला गया था उसका कहना था कि विश्व में रासायनिक हमले जैसे अमानवीय घटनाएं हो रही हैं जिसे बड़े देशों को सुलझाने का प्रयास करना चाहिए.
शुक्रवार को किए हमले के बारे में अमेरिका ने कहा है कि हमला सिर्फ रासायनिक हथियार रखे जाने वाले जगहों, सैन्य ठिकाने पर किया गया है किसी भी आम नागरिक को टारगेट नहीं किया गया है. इस हमले का मुख्य मकसद सीरिया के माहौल को सुधारने के लिए किया गया है.
यह भी पढ़ें – चीन के वन बेल्ट बन रोड प्रोजेक्ट में नेपाल का शामिल होना आखिर क्यों भारत को नहीं है रास
रूस बुलाएगा UNSC की आपात बैठक
इस हवाई हमले को लेकर रूस काफी बौखला गया है, रुस ने सीरिया में हुए साझा सैन्य कार्यवाही के खिलाफ कहा है कि रासायनिक हथियार के ठिकाने तो अमेरिका में भी है फिर अमेरिका उसे क्यूं खत्म नहीं करता. क्यों वो किसी दूसरे देश के मामलों में दखल दे रहा है.
इस मुद्दे को लेकर रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने कहा है कि सीरिया पर अमेरिकी सैन्य हमले को लेकर रूस संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में आपातकालीन सत्र को बुलाएगा.
गौरतलब है कि अमेरिका इस हवाई हमले को तुरंत नहीं खत्म करने वाला है. अमेरिका का कहना है कि वो कार्रवाई को तब तक जारी रखने के लिए तैयार हैं, जब तक कि सीरियाई शासन निषिद्ध रासायनिक एजेंटों का अपना उपयोग बंद न कर दे.